हम अरुणाचल प्रदेश को भारत के अभिन्न अंग के रूप में मान्यता नहीं देते – चीन

0
68

14 अक्टूबर,:—- चीन सबसे लोकप्रिय देशों में से एक है जो भारत के विकास पर रो रहा है। बयानबाजी सीमाओं के पार हमारे क्षेत्र पर आक्रमण करती है। पिछले कमांडर स्तर की चर्चाओं में भी यही हुआ था। ईटो ने अंधाधुंध समय बर्बाद किया है। हाल ही में अरुणाचल प्रदेश के मामले में एक और विवाद सामने आया है।

उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने 8 अगस्त को अरुणाचल प्रदेश का दौरा किया। विभिन्न कार्यक्रमों में भाग लेते हुए.. उन्होंने कहा कि दशकों से उपेक्षित पूर्वोत्तर भारत में इस समय विकास चल रहा है।

हालांकि चीन ने वेंकैया की यात्रा पर आपत्ति जताई थी। देश के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियन ने मीडिया को बताया कि चीनी सरकार ने अरुणाचल को कभी भी भारत के हिस्से के रूप में मान्यता नहीं दी थी। चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियन ने मीडिया से कहा, “हम भारतीय उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू की चीन यात्रा का कड़ा विरोध करते हैं।”

भारत ने लिज़ियान की टिप्पणी का विरोध करते हुए कहा कि अरुणाचल प्रदेश हमेशा से भारत का अभिन्न अंग रहा है और जो अविभाज्य है। भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियन द्वारा की गई टिप्पणी की निंदा की।

वेंकट, ekhabar रिपोर्टर,