चीन ने अमेरिका पर यूक्रेन में युद्ध भड़काने का लगाया आरोप, कहा- नाटो का विस्तार है जिम्मेदार

0
110

बीजिंग। रूस और यूक्रेन के बीच जारी युद्ध को एक महीने से ज्यादा समय हो गया है। इस बीच, चीन ने अमेरिका पर यूक्रेन में युद्ध भड़काने का आरोप लगाया है। साथ ही कहा कि सोवियत संघ के टूटने के बाद नाटो को भंग कर देना चाहिए था। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियन ने शुक्रवार को कहा कि यूक्रेन संकट के अपराधी और प्रमुख उत्प्रेरक के रूप में अमेरिका ने नाटो को 1999 के बाद पिछले दो दशकों में पूर्व की ओर विस्तार के पांच दौर में शामिल किया है।

झाओ ने कहा कि नाटो के सदस्यों की संख्या 16 से बढ़कर 30 हो गई है और वे पूर्व की ओर 1,000 किलोमीटर (600 मील) से अधिक रूसी सीमा के नजदीक चले गए हैं। यह रूस को कदम दर कदम पीछे की ओर धकेल रहे हैं।

चीन ने रूस द्वारा यूक्रेन पर आक्रमण की निंदा करने से इनकार कर दिया है। साथ ही रूस पर प्रतिबंधों का विरोध जताते हुए कहा कि यह नियमित रूप से संघर्ष के बारे में रूसी विघटन को बढ़ाता है।

झाओ की टिप्पणी तब आई जब चीनी और यूरोपीय संघ के नेता एक वर्चुअल शिखर सम्मेलन के लिए मिल रहे हैं, जिस पर यूक्रेन के चर्चाओं पर हावी होने की उम्मीद है।

यूरोपीय संघ के अधिकारियों का कहना है कि वे चीन से एक प्रतिबद्धता की तलाश कर रहे हैं कि वह प्रतिबंधों को कम न करे और लड़ाई को रोकने के प्रयासों में सहायता करे।

यूक्रेन में बड़ी संख्या में आम नागरिकों की गईं जान

बता दें कि रूस द्वारा यूक्रेन पर किए जा रहे हमले से आम नागरिकों की काफी संख्या में जानें गई हैं। यूक्रेन के मारियुपोल शहर में हुई भीषण बमबारी में पांच हजार लोग मारे गए हैं। इनमें 210 बच्‍चे भी शामिल हैं। वहीं, मारियापुल में करीब 1.61 लाख फंसे हुए हैं। यहां के हालात नरक से भी बदत्‍तर बने हुए हैं। यूक्रेन के चर्नोबिल पर रूस का पहले ही कब्‍जा हो चुका है। खार्कीव में भी दोनों सेनाओं के बीच भीषण जंग जारी है।