बीसीसीआइ को रिद्धिमान साहा नहीं बताएंगे धमकी देने वाले पत्रकार का नाम

0
189

नई दिल्ली। टीम इंडिया के विकेटकीपर बल्लेबाज रिद्धिमान साहा ने कहा है कि वह बोर्ड क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) को उनको धमकी देने वाले पत्रकार का नाम नहीं बताएंगे।उन्होंने कहा है कि वह किसी का करियर नहीं खराब करना चाहते। गौरतलब है कि बोर्ड ने कहा है कि वह साहा से उनके उस ट्वीट के बारे में पूछेगा, जिसमें उन्होंने कथित रूप से एक पत्रकार पर धमकाने के आरोप लगाए थे। साहा को भारतीय टीम में शामिल नहीं किया गया था और उन्होंने एक पत्रकार पर आरोप लगाए थे कि उस पत्रकार ने साक्षात्कार नहीं देने पर उनसे आक्रामक तरीके से व्यवहार किया।

द इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक साहा ने कहा है, ‘मुझे अभी तक बीसीसीआइ ने इसे लेकर संपर्क नहीं किया है। अगर वे मुझसे (पत्रकार का) नाम उजागर करने के लिए कहते हैं, तो मैं उन्हें बताऊंगा कि किसी के करियर को नुकसान पहुंचाने, किसी व्यक्ति को नीचा दिखाने का मेरा इरादा कभी नहीं था। इसलिए मैंने अपने ट्वीट में नाम का खुलासा नहीं किया। यह मेरे माता-पिता की शिक्षा नहीं है। मेरे ट्वीट का मुख्य उद्देश्य इस तथ्य को उजागर करना था कि मीडिया में कोई है, जो इस तरह की चीजें करता है। एक खिलाड़ी की इच्छा का अनादर करता है।

साहा ने ट्विटर पर उस पत्रकार से बातचीत के कुछ स्क्रीनशाट शेयर करते हुए लिखा था कि भारतीय क्रिकेट में मेरे सभी योगदानों के बाद एक तथाकथित सम्मानित पत्रकार से मुझे यही सामना करना पड़ता है। पत्रकारिता कहां चली गई है। शेयर किए गए स्क्रीनशाट में लिखा था कि मेरे साथ एक इंटरव्यू करेंगे। यदि आप लोकतांत्रिक बनना चाहते हैं, तो मैं दबाव नहीं डालूंगा। उन्होंने केवल एक ही विकेटकीपर चुना। कौन सर्वश्रेष्ठ है। आपने 11 पत्रकारों को चुनने की कोशिश की, जोकि मेरे हिसाब से सही नहीं है। उन्हें चुने जो ज्यादा मदद कर सके। आपने काल नहीं किया। मैं अब आपका कभी इंटरव्यू नहीं लूंगा और मैं इस बात को हमेशा याद रखूंगा। मालूम हो कि साहा को श्रीलंका के खिलाफ टेस्ट सीरीज के लिए टीम में जगह नहीं मिली थी।

साहा के ट्वीट के बाद पूर्व मुख्य कोच रवि शास्त्री, पूर्व खिलाड़ी वीरेंद्र सहवाग और हरभजन सिंह जैसे खिलाड़ी साहा के समर्थन में उतरे और उन्होंने साहा से उस पत्रकार का नाम उजागर करने के लिए कहा। बीसीसीआइ के कोषाध्यक्ष अरुण धूमल ने कहा, हां, हम रिद्धिमान से उनके ट्वीट के बारे में पूछेंगे और यह जानेंगे कि असल घटना क्या हुई है। हमें यह जानने की जरूरत है कि क्या उन्हें धमकी दी गई थी। मैं और कुछ नहीं कह सकता। सचिव जय शाह निश्चित रूप से रिद्धिमान से बात करेंगे।