विश्व कप से पहले प्रियम गर्ग ने ली पृथ्वी शॉ से सलाह, किसी भी तरह के दबाव में नहीं टीम इंडिया

0
115

बेंगलुरु : भारत की अंडर-19 क्रिकेट टीम के कप्तान प्रियम गर्ग ने कहा कि उन्होंने दक्षिण अफ्रीका में 17 जनवरी से नौ फरवरी तक होने वाले अंडर-19 विश्व कप में टीम के खिताब की रक्षा के अभियान की अपनी योजना बनाने और टीम को एकजुट करने पर पूर्व कप्तान पृथ्वी शॉ से सलाह ली।अंडर-19 विश्व कप से पहले भारतीय टीम दक्षिण अफ्रीका में मेजबान टीम के खिलाफ तीन वनडे मैच खेलेगी और इसके बाद चतुष्कोणीय सीरीज में हिस्सा लेगी, जिसमें जिंबाब्वे और न्यूजीलैंड की अंडर-19 टीमें भी खेलेंगी।

भारत की अंडर-19 टीम के दक्षिण अफ्रीका के लिए रवाना होने से पहले गर्ग ने कहा कि मैंने अब तक विराट कोहली सर से बात नहीं की है, मैंने पृथ्वी से काफी बात की है। उन्होंने मुझे बताया कि आपकी रणनीति, आपकी प्रक्रिया और आपकी टीम की एकजुटता सबसे महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि टीम जितनी अधिक एकजुटता की भावना को महसूस करेगी, उतना ही बेहतर प्रदर्शन करेगी।

पृथ्वी ने साथ ही कहा कि टीम को पता होना चाहिए कि उसका मजबूत पक्ष क्या है। उन्होंने बताया कि 2018 में भारत की सफलता में टीम की एकजुटता ने अहम भूमिका निभाई। भारत इस टूर्नामेंट की सबसे सफल टीम है और अब तक चार खिताब जीत चुकी है। पिछले टूर्नामेंट में भारत ने फाइनल में ऑस्ट्रेलिया को आठ विकेट से हराया था और टूर्नामेंट में अजेय रही थी। हालांकि गर्ग ने जोर देते हुए कहा कि टीम पर कोई दबाव नहीं है।

उन्होंने कहा कि मैं इसे सिर्फ इतने बड़े टूर्नामेंट में टीम की कप्तानी करने के मौके के तौर पर देख रहा हूं। हमने इतनी सारी प्रतियोगिताओं में खेले हैं इसलिए यह हमारे लिए फायदे की स्थिति है। एक कप्तान के रूप में मैं सोच रहा हूं कि अपनी टीम को आगे कैसे ले जाऊं। मुश्किल हालात के टीम को कैसे संभालूं।

भारत की अंडर-19 टीम के मुख्य कोच पारस महाम्ब्रे ने कहा कि टीम संतुलित है और टूर्नामेंट से पहले अभ्यास मैचों में कुछ संयोजनों को लेकर प्रयोग करने का मौका मिलेगा। उन्होंने कहा कि अच्छी चीज यह है कि हमारी टीम काफी संतुलित है। हमारे पास तेज गेंदबाजी ऑलराउंडर, स्पिन ऑलराउंडर, स्तरीय तेज गेंदबाज और बल्लेबाज भी हैं।

ऐसे में दक्षिण अफ्रीका में ये मुकाबले हमें प्रयोग करने और कुछ संयोजनों को आजमाने का मौका देंगे। अंडर-19 विश्व कप के 13वें टूर्नामेंट में 16 टीमें हिस्सा ले रही हैं जिन्हें चार ग्रुप में बांटा गया है। भारत को ग्रुप-ए में पहली बार क्वालीफाई करने वाले जापान, न्यूजीलैंड और श्रीलंका के साथ रखा गया है। प्रत्येक ग्रुप से शीर्ष दो टीमें सुपर लीग चरण में जगह बनाएंगी।