रहाणे-पुजारा के अलावा किस बल्लेबाज को भारतीय टीम से करना चाहिए बाहर

0
79

नई दिल्ली। विराट कोहली की कप्तानी में भारत ने साउथ अफ्रीका के खिलाफ आखिरी टेस्ट सीरीज में हिस्सा लिया था जिसमें टीम इंडिया को 2-1 से हार मिली। इस टेस्ट सीरीज के पहले मैच में यानी सेंचुरियन में भारत ने मेजबान टीम को 113 रन के बड़े अंतर से हराया था, लेकिन इसके बाद के अगले दो मैचों में भारतीय टीम ने अपनी जीत का रिदम खो दिया और उसे हार मिली। इस टेस्ट सीरीज में मिली हार के बाद जिन दो बल्लेबाजों के नाम की सबसे ज्यादा चर्चा हुई वो अजिंक्य रहाणे और चेतेश्वर पुजारा रहे। दरअसल ये दोनों खिलाड़ी लगातार टीम के लिए ज्यादातर मौकों पर रन बनाने में सफल नहीं हो रहे हैं। इन्हें पर्याप्त मौके दिए जा रहे हैं, लेकिन ऐसा लगता है जैसे इन्होंने अपनी चमक पूरी तरह से खो दी है।

रहाणे और पुजारा का खराब फार्म में होना टीम के लिए चिंता का विषय है, लेकिन भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व स्पिनर हरभजन सिंह ने इन दोनों के अलावा एक और बल्लेबाज के नाम को हाईलाइट किया जो साउथ अफ्रीका दौरे पर बुरी तरह से फेल रहे। अब भारत को अगली टेस्ट सीरीज अपने घर में श्रीलंका के खिलाफ खेलना है। इससे पहले हरभजन सिंह ने कहा कि टीम मैनेजमेंट को मयंक अग्रवाल के नाम पर भी विचार करना चाहिए और उनके जगह किसी अन्य खिलाड़ी को मौका देना चाहिए। भज्जी के मुताबिक मयंक को भी पर्याप्त मौके मिले, लेकिन वो उससे भुनाने में सफल नहीं हो पाए।

भज्जी ने अपने यूट्यूब चैनल पर बात करते हुए कहा कि मयंक को छह पारियां मिली, लेकिन उन्होंने मौके का फायदा नहीं उठाया और ये इस बात का संकेत है कि कोई अन्य खिलाड़ी उनकी जगह आ सकता है। शुभमन गिल या फिर पृथ्वी शा को अगली सीरीज में देखा जा सकता है क्योंकि एक खिलाड़ी के लिए छह पारियां काफी है। मयंक अच्छे बल्लेबाज हैं और मैं उनका समर्थन करता हूं, लेकिन उन्होंने रन नहीं बनाए हैं ऐसे में मुझे ये नहीं पता कि उनके लिए आगे का रास्ता क्या होगा। मयंक ने छह पारियों में 22.50 की औसत से साउथ अफ्रीका में सिर्फ 135 रन बनाए थे।

भज्जी ने रहाणे और पुजारा के बारे में कहा कि साउथ अफ्रीका में उनसे काफी उम्मीदें थी, लेकिन उन्होंने अच्छा नहीं किया। व्यक्तिगत तौर पर लगता है कि ब दोनों के लिए आगे का रास्ता मुश्किल है। सूर्यकुमार यादव, श्रेयस अय्यर जैसे बल्लेबाज अपने मौके का इंतजार कर रहे हैं। मुझे लगता है कि जिस तरह से रहाणे और पुजारा ने प्रदर्शन किया है उन्होंने खुद ही अय्यर और सूर्यकुमार यादव के लिए रास्ता बना दिया है।