न्यूजीलैंड के खिलाफ मैच में कप्तान रोहित व कोच द्रविड़ की जोड़ी की पहली परीक्षा

0
114

जयपुर। टी-20 विश्व कप में हार का कड़वा घूंट पीने के बाद भारतीय क्रिकेट टीम रोहित शर्मा की कप्तानी और मुख्य कोच राहुल द्रविड़ की निगरानी में न्यूजीलैंड के खिलाफ बुधवार से शुरू होने वाली तीन टी-20 अंतरराष्ट्रीय मैचों की सीरीज में नए सिरे से शुरुआत करने की कोशिश करेगी।

द्रविड़ और रोहित की जोड़ी के पास अगले टी-20 विश्व कप से पहले सबसे छोटे प्रारूप में मजबूत टीम तैयार करने के लिए केवल 11 महीने का समय होगा। इस बीच उन्हें टीम में आवश्यक बदलाव और सुधार करने होंगे। यूएई में टी-20 विश्व कप की निराशा के बाद भारत तेज गेंदबाजी आलराउंडर में हार्दिक पांड्या से इतर देखने को मजबूर हुआ है। पांड्या चोटिल होने के कारण अपनी आलराउंड क्षमता का प्रदर्शन नहीं कर पा रहे हैं।

आइपीएल में शानदार प्रदर्शन करने वाले वेंकटेश अय्यर को हार्दिक के विकल्प के रूप में देखा जा रहा है और न्यूजीलैंड के खिलाफ तीन मैचों से यह पता चल जाएगा कि उन्हें तेज गेंदबाजी आलराउंडर के रूप में तैयार किया जा सकता है या नहीं। भारत बल्लेबाजी विभाग में अधिक पावर हिटर रख सकता है और आइपीएल में कोलकाता नाइटराइडर्स की तरफ से खेलने वाले वेंकटेश ने लंबे और बड़े शाट खेलने की अपनी क्षमता का खुलकर प्रदर्शन किया है। आइपीएल में अच्छा प्रदर्शन करने वाले जिन अन्य खिलाडि़यों को टीम में चुना गया है उनमें रुतुराज गायकवाड़, हर्षल पटेल, आवेश खान और युजवेंद्रा सिंह चहल शामिल हैं। चहल को टी-20 विश्व कप टीम से बाहर करने का फैसला काफी विवादास्पद रहा था।

जसप्रीत बुमराह को सीरीज के लिए विश्राम दिया गया और ऐसे में भारत एक और तेज गेंदबाज की तलाश करना चाहेगा, जो लगातार 140 किमी प्रति घंटे या उससे अधिक की रफ्तार से गेंदबाजी कर सके। यूएई में भी देखा गया था अतिरिक्त तेजी से की गई गेंद लाभ पहुंचाती हैं औरे ऐसे में आवेश और मुहम्मद सिराज पर सभी की निगाहें रहेंगी। भुवनेश्वर कुमार यूएई में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन नहीं कर पाए थे। उन्हें अपने पुराने रंग में लौटने का एक और मौका दिया गया है।

कप्तान रोहित शर्मा और मुख्य कोच राहुल द्रविड़ आस्ट्रेलिया की परिस्थितियों को ध्यान में रखकर खिलाड़ी की योग्यता को परखना चाहेंगे। आस्ट्रेलिया अगले साल टी-20 विश्व कप की मेजबानी करेगा। टीम में छोटे प्रारूप के पांच सलामी बल्लेबाज शामिल हैं और उन्हें मध्यक्रम में उतारना चुनौतीपूर्ण होगा। रोहित और उप कप्तान केएल राहुल बुधवार को पारी का आगाज कर सकते हैं, लेकिन इशान किशन और गायकवाड़ के रूप में अधिक विकल्प होने के कारण भारत कुछ प्रयोग भी कर सकता है। यहां तक कि वेंकटेश ने केकेआर की तरफ से अपने सभी रन सलामी बल्लेबाज के रूप में बनाए, लेकिन वह मध्यक्रम में बल्लेबाजी करने के लिए तैयार हैं।

सूर्यकुमार यादव विश्व कप के दौरान अपनी लय हासिल नहीं कर पाए, लेकिन वह एक ऐसे खिलाड़ी हैं जिन्हें भारत विशेषकर आस्ट्रेलियाई परिस्थितियां देखकर चौथे नंबर पर तैयार करना चाहता है। रवींद्र जडेजा को विश्राम दिए जाने के कारण अक्षर पटेल स्पिन गेंदबाजी आलराउंडर की जगह भर सकते हैं, जबकि आर अश्विन के अंतिम एकादश में बने रहने की संभावना है।

विश्व कप में भारत को हराने वाला न्यूजीलैंड फाइनल में आस्ट्रेलिया से हारने के तुरंत बाद जयपुर पहुंचा है और उसे अपनी हार की समीक्षा करने का अधिक मौका नहीं मिला। कप्तान केन विलियमसन को टी-20 सीरीज के लिए विश्राम दिया गया है, ताकि वह इसके बाद होने वाली टेस्ट सीरीज के लिए तरोताजा हो सकें। तेज गेंदबाज टिम साउथी उनकी अनुपस्थिति में टीम की कमान संभालेंगे। साउथी के साथ गेंदबाजी की अगुआई ट्रेंट बोल्ट करेंगे और बल्लेबाजी में डेरिल मिशेल जैसे खिलाडि़यों की मौजूदगी न्यूजीलैंड को खतरनाक टीम बनाती है। न्यूजीलैंड उन खिलाडि़यों को भी मौका दे सकता है जिन्हें यूएई में अवसर नहीं मिला था। इनमें काइल जेमिसन भी शामिल हैं, जो केवल अभ्यास मैचों में खेले थे। इस सीरीज में रोहित और ईश सोढ़ी के बीच दिलचस्प मुकाबला देखने को मिल सकता है क्योंकि भारतीय कप्तान को कलाई के स्पिनरों को खेलने में थोड़ा दिक्कत होती है।

टीमें :

भारत : रोहित शर्मा (कप्तान), केएल राहुल, रुतुराज गायकवाड़, श्रेयस अय्यर, सूर्यकुमार यादव, रिषभ पंत, इशान किशन, वेंकटेश अय्यर, युजवेंद्रा सिंह चहल, आर अश्विन, अक्षर पटेल, आवेश खान, भुवनेश्वर कुमार, दीपक चाहर, हर्षल पटेल, मुहम्मद सिराज।

न्यूजीलैंड : टिम साउथी (कप्तान), टाड एस्टल, ट्रेंट बोल्ट, मार्क चैपमैन, लाकी फग्र्यूसन, मार्टिन गुप्टिल, काइल जेमिसन, एडम मिल्ने, डेरिल मिशेल, जेम्स नीशाम, ग्लेन फिलिप्स, मिशेल सेंटनर, टिम सीफर्ट, ईश सोढ़ी।