टीम सेलेक्शन में नहीं होती थी रवि शास्त्री की कोई भूमिका, 2019 वनडे वर्ल्ड कप में खिलाड़ियों के चयन पर किया बड़ा खुलासा

0
98

नई दिल्ली। टी20 वर्ल्ड कप के बाद रवि शास्त्री का कार्यकाल पूरा हो गया था और वो अब टीम इंडिया के हेड कोच नहीं है। रवि शास्त्री के बाद ये जिम्मेदारी पूर्व भारतीय क्रिकेटर राहुल द्रविड़ को सौंपी गई । हेड कोच पद से हटने के बाद रवि शास्त्री कई बातों का खुलासा कर रहे हैं और अब उन्होंने कहा कि भारतीय टीम सेलेक्शन में उनकी कोई भूमिका नहीं होती थी। वहीं उनका ऐसा भी मानना है कि वनडे वर्ल्ड कप 2019 में नंबर चार के लिए भारतीय टीम में श्रेयस अय्यर या फिर अंबाती रायुडू का चयन होना चाहिए था।

रवि शास्त्री ने कहा कि टीम के सेलेक्शन में मेरा कोई रोल नहीं होता था और वर्ल्ड कप की टीम में तीन-तीन विकेटकीपर के चुने जाने से मैं खुश नहीं था। उस टीम में श्रेयस अय्यर या फिर अंबाती रायुडू को चुना जाना चाहिए था और एक ही टीम में महेंद्र सिंह धौनी, रिषभ पंत और दिनेश कार्तिक का चुना जाना कहीं से भी सही नहीं था। इन सारी बातों के बावजूद मैंने सेलेक्टर्स के काम में कभी कोई दखलअंदाजी नहीं की। मैं तभी कोई बात कहता था जब मुझसे राय मांगी जाती थी। रवि शास्त्री ने ये बातें साल 2019 वनडे वर्ल्ड कप को लेकर टाइम्स आफ इंडिया से बात करते हुए कही।

आपको बता दें कि साल 2019 वनडे वर्ल्ड कप में टीम इंडिया सेमीफाइनल तक पहुंची थी और उस मुकाबले में न्यूजीलैंड के हाथों भारत को हार मिली थी। उस भारतीय टीम में नंबर चार के लिए अंबाती रायुडू की जगह टीम में विजय शंकर को मौका दिया गया था। हालांकि बाद में विजय शंकर चोटिल होकर इस टूर्नामेंट से बाहर हो गए थे और फिर रिषभ पंत टीम में आए थे। विजय शंकर के टीम में चयन को लेकर उस वक्त के चीफ सेलेक्टर एमएसके प्रसाद ने कहा था कि विजय शंकर की बल्लेबाजी, गेंदबाज और फील्डिंग करने की काबिलियत को देखकर ही उन्हें टीम में जगह दी गई थी।