वेस्टइंडीज के खिलाफ सेमीफाइनल में जगह सुनिश्चित करने के लिए किसी भी गलती से बचना चाहेगा आस्ट्रेलिया

0
80

अबूधाबी। बांग्लादेश को पिछले मैच में रौंदने के बाद आस्ट्रेलिया का अभियान पटरी पर लौट आया है और टी-20 विश्व कप के सेमीफाइनल में जगह सुनिश्चित करने के लिए उन्हें शनिवार को यहां होने वाले सुपर-12 चरण के अंतिम मैच में वेस्टइंडीज के खिलाफ किसी भी गलती से बचना होगा। पिछले शनिवार को चिर प्रतिद्वंद्वी इंग्लैंड से हारने के बाद आस्ट्रेलिया ने गुरुवार को बांग्लादेश पर रिकार्ड आठ विकेट से जीत दर्ज कर वापसी की जिससे उसका नेट रन रेट -0.627 से +1.031 पहुंच गया।
आरोन फिंच की टीम के लिए अंतिम-चार में स्थान सुनिश्चित करने के लिए यह जीत भी शायद नाकाफी हो सकती है, अगर दक्षिण अफ्रीका की टीम शारजाह में होने वाले ग्रुप-एक के एक अन्य मैच में इंग्लैंड को हरा दे जिससे उसका नेट रन रेट आस्ट्रेलिया से बेहतर हो जाएगा। वेस्टइंडीज के खिलाफ हार के बाद भी अगर आस्ट्रेलिया भाग्यशाली रहता है तो वह ग्रुप-ए में उप विजेता रहकर सेमीफाइनल स्थान सुनिश्चित कर सकता है बशर्ते इंग्लैंड की टीम दक्षिण अफ्रीका को हराकर सभी पांचों मैच जीत ले। इसलिए काफी कुछ इंग्लैंड और दक्षिण अफ्रीका के नतीजों पर निर्भर करेगा। आस्ट्रेलियाई टीम इस समय ग्रुप एक तालिका में बेहतर नेट रन रेट की बदौलत दक्षिण अफ्रीका से आगे दूसरे स्थान पर है।

इस अनिश्चित परिदृश्य को देखते हुए आस्ट्रेलियाई टीम आत्ममुग्ध होना गंवारा नहीं कर सकती। साथ ही गत विजेता कैरेबियाई टीम भी जीत के साथ टूर्नामेंट का समापन करना चाहेगी। वहीं, 2010 उप विजेता आस्ट्रेलिया ने 2012 में पिछली बार सेमीफाइनल में जगह बनाई थी जिसमें उन्हें चैंपियन बनी वेस्टइंडीज ने हराया था। दो बार की गत चैंपियन वेस्टइंडीज की टीम उम्मीदों पर खरा नहीं उतर सकी जो अपने उम्रदराज सितारों जैसे क्रिस गेल, ड्वेन ब्रावो, आंद्रे रसेल और कीरोन पोलार्ड पर निर्भर थी। ग्रुपप के शुरुआती मैच में इंग्लैंड के खिलाफ 55 रन पर सिमटने के बाद गुरुवार को श्रीलंका के खिलाफ हारने से टीम सेमीफाइनल की दौड़ से बाहर हो गई।

वहीं, दूसरी ओर आस्ट्रेलिया अपने पहले खिताब को जीतने के लिए सही समय पर लय में आ रही है। उनका गेंदबाजी आक्रमण बांग्लादेश के खिलाफ आठ विकेट की जीत के दौरान शानदार रहा जो उसने 82 गेंद रहते हासिल की। यह इन दोनों पूर्ण सदस्य टीमों के बीच टी-20 अंतरराष्ट्रीय में सबसे बड़ी जीत थी। जोश हेजलवुड और मिशेल स्टार्क की तेज गेंदबाजी जोड़ी ने शुरुआती झटके दिये तो लेग स्पिनर एडम जांपा ने पुछल्ले बल्लेबाजों को आउट कर 19 रन पर पांच विकेट झटक कर अपने करियर का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया।

यहां तक कि ग्लेन मैक्सवेल भी कामचलाऊ आफ स्पिन में किफायती रहे और टीम उम्मीद करेगी कि वह बल्ले से भी धमाल शुरू कर दें। उनके अनिरंतर शीर्ष क्रम को भी मिशेल मार्श के तीसरे नंबर पर आने से कुछ फायदा मिला। वे उम्मीद करेगे कि डेविड वार्नर और मैक्सवेल वेस्टइंडीज के खिलाफ लय में लौट आएं जिससे उम्मीद है कि वे अंतिम-एकादश में कोई बदलाव नहीं करेंगे।