चुनाव के बहाने भाजपा 23 हजार बूथ कमेटियों में साधेगी साढ़े चार लाख कार्यकर्ता

0
118

रायपुर। छत्तीसगढ़ में संगठन चुनाव के बहाने भाजपा सिर्फ बूथ कमेटियों में साढ़े चार लाख कार्यकर्ताओं को साधने की कोशिश करेगी। प्रदेश के 23 हजार 632 से ज्यादा बूथ 18-30 सदस्यीय कमेटी बनाएगी। इसमें एक बूथ अध्यक्ष, एक बूथ पालक और सदस्य होंगे।

केंद्रीय चुनाव समिति ने 30 सितंबर तक बूथ का चुनाव पूरा करने की समयसारिणी घोषित की है। बूथ के चुनाव के बाद 11 अक्टूबर से मंडल अध्यक्ष और कमेटी के चुनाव शुरू होंगे। प्रदेश भाजपा अध्यक्ष विक्रम उसेंडी ने बताया कि केंद्रीय चुनाव समिति ने कार्यक्रम तय किया है। बूथ स्तर पर सर्वसम्मति से अध्यक्ष और सचिव का चयन किया जाएगा। पार्टी का संगठन चुनाव बूथ स्तर से शुरू होता है। बूथ कमेटी के सदस्य मंडल कमेटी का चयन करेंगे।

भाजपा के उच्च पदस्थ सूत्रों की मानें तो नगरीय निकाय चुनाव से पहले पार्टी संगठन चुनाव पूरा करने की तैयारी में है। बूथ के चुनाव के लिए चुनाव अधिकारी की नियुक्ति कर दी गई है। बताया जा रहा है कि संगठन चुनाव के बहाने पार्टी नगरीय निकाय चुनाव के लिए कार्यकर्ताओं की नब्ज टटोल रही है। साथ ही बूथ कमेटी में युवाओं को मौका देने की तैयारी भी चल रही है। पार्टी की आंतरिक रिपोर्ट में यह बात सामने आई थी कि कार्यकर्ताओं की नाराजगी के कारण विधानसभा चुनाव में पार्टी के पक्ष में परिणाम नहीं आया।

कांग्रेस सरकार के छह महीने के कार्यकाल के बाद एक बार फिर कार्यकर्ता एकजुट हुए और लोकसभा चुनाव में परिणाम बेहतर आया। अब पार्टी की कोशिश है कि कार्यकर्ताओं की नाराजगी को बूथ स्तर और मंडल स्तर पर दूर किया जाए और नगरीय निकाय चुनाव में कांग्रेस को कड़ी टक्कर दी जाए।

सदस्यता पंजी का चल रहा सत्यापन

चुनाव प्रभारियों को साफतौर पर कहा गया है कि ज्यादा से ज्यादा नए और युवा कार्यकर्ताओं को टीम में मौका देना है। फिलहाल चुनाव टोली द्वारा सदस्यता पंजी के सत्यापन का काम किया जा रहा है। इस प्रक्रिया में अनुमान है कि साढ़े चार लाख से ज्यादा कार्यकर्ता बूथ कमेटियों में समायोजित हो जाएंगे।

सदस्यों के आधार पर बनेगी कमेटी

भाजपा चुनाव अभियान के प्रभारी रामप्रताप सिंह ने बताया कि बूथ में सदस्यों की संख्या के आधार पर कमेटी का गठन किया जाएगा। 50 से कम सदस्यों वाले बूथ में 12 सदस्यीय, 100 से अधिक सदस्यों वाले बूथ में 18 कार्यकर्ताओं की कार्यकारिणी का गठन किया जाएगा। 300 सदस्यों वाले बूथ में 24 लोगों की टीम और एक अध्यक्ष को चुना जाएगा। जहां सदस्य संख्या 300 से अधिक है, वहां एक अध्यक्ष और 30 सदस्यों की टीम बनाई जाएगी।