बांग्लादेश हुआ रायपुर एम्स का मुरीद, इनकी बताई गाइडलाइंस से करेगा कोरोना मरीजों का इलाज

0
133

रायपुर. वेबीनार की तीसरी कड़ी में कोविड 19 वार्ड के इंचाज डॉ. अतुल जिंदल ने पिछले एक माह के अनुभव के आधार पर सार्स कोविड.19 में आईसीयू और वेंटीलेटर प्रबंधन विषय पर प्रस्तुति दी। डॉ. जिंदल ने बताया कि व्यस्क रोगियों में 80 प्रतिशत माइल्ड, 15 प्रतिशत मॉडरेट और 5 प्रतिशत ही क्रिटिकल कंडीशन के रोगी मिल रहे हैं। ऐसे में रोगियों के प्रबंधन पर अधिक ध्यान देने की आवश्यकता है। उन्होंने रेस्पिरेटरी फेलियर, अचानक मृत्यु, पैथोजेनेसिस, हाइपोक्सिया प्रबंधन, जांच करने आदि के बारे में विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने कोविड.19 ट्रीटमेंट के दौरान सीबीसी, आर्गन फंक्शन, कार्डिक फंक्शन जिसमें ईसीजीए इको आदि शामिल है और चेस्ट का एक्सरे करने का सुझाव दियाए जिससे रोगी की स्थिति को समझने में काफी मदद मिलती है। उन्होंने चिकित्साकर्मियों से पीपीई पहनकर रोगी तक जाने का अनुरोध किया ताकि उनमें संक्रमण न फैले।

150 से अधिक चिकित्सकों ने लिया भाग

वेबीनार संयोजक डॉ. एकता खंडेलवाल ने बताया कि इसमें सार्क देशों के 150 से अधिक चिकित्सकों ने भाग लिया। बांग्लादेश की राजधानी ढाका से एक चिकित्सा संस्थान के चिकित्सक ने एम्स रायपुर के चिकित्सकों से ट्रीटमेंट गाइडलाइन्स के बारे में जानकारी मांगी तो वेबीनार में उपस्थित चिकित्सकों ने उन्हें इस संबंध में जरूरी जानकारी दी। वेबीनार के आखिरी दिन मंगलवार को प्रो. अजॉय कुमार बेहरा की प्रस्तुति होगी।