घर की ये चीजें आपके होने वाले बच्चे के लिए हो सकती है खतरनाक, आज से ही बंद करें इनका इस्तेमाल

0
226

जब आपको पता चलता है कि आप एक पैरेंट बनने वाले हैं तो आप अपने होने वाले बच्चे के लिए महीनों से तैयारी करने लगते हैं। ऐसे में आप बच्चे का ख्याल रखने के लिए उनकी मां का भी ज्यादा ख्याल रखने लगते हैं। आप चाहते हैं कि आपका बच्चा स्वस्थ पैदा हो और जब वो घर में आए तो उसके बाद भी उसका ख्याल इस तरह रखा जाए कि जिससे उसे किसी भी तरह की कोई परेशानी ना हो।

हर कोई पैरेंट बनने से पहले जब उसे पता चलता है कि वो एक बच्चे के माता-पिता बनने जा रहे हैं तो वो हर संभव चीजें बच्चे के लिए करने की कोशिश करता है जिससे कि उनका बच्चा स्वस्थ रहे। वैसे तो लोग बच्चे को गर्भ में स्वस्थ रखने के लिए उनकी मां का भी काफी ज्यादा ख्याल रखते हैं। लेकिन फिर भी जिन लोगों को पैरेंटिंग का अनुभव नहीं होता वो लोग कई गलतियां कर बैठते है। जिसका सीधा असर उनके बच्चे पर पड़ता है। हम आपको बताते है कि आपके होने वाले बच्चे के लिए क्या चीज ठीक नहीं है।

अगर आप पैरेंट बन रहे हैं तो आपके लिए सबसे ज्यादा जरूरी होता है कि आप अपने होने वाले बच्चे का पूरी तरह से ख्याल रखें। जिससे की वो गर्भ में पूरी तरह से स्वस्थ रह सके और स्वस्थ ही पैदा हो। गर्भवती होने के बाद बच्चे की मां को हर तरीके से अपना और अपने बच्चे का ध्यान रखना जरूरी हो जाता है। ऐसे में गर्भवती महिला को अपनी लाइफस्टाइल में भी बदलाव करने की जरूरत होती है। उन्हें कैफीन, अल्कोहल और खराब लाइफस्टाइल से दूरी बनाने की जरूरत होती है।

हाल ही में एडवर्ड कॉलेज एंड वर्जिनिया मेरीलैंड कॉलेज में हुए एक अध्ययन में पाया गया है कि घर में इस्तेमाल होने वाली ऐसी कई चीजें होती है जिसका सीधा असर होने वाले बच्चे पर पड़ता है।

अगर आप गर्भवती है और घर में सफेदी करने के लिए सोच रही हैं तो ऐसे में आपको इस बात का ध्यान रखने की जरूरत है कि इसका सीधा असर आपके बच्चे पर पड़ेगा। आप कोशिश करें कि आप सफेदी करते समय ऐसी चीज का इस्तेमाल ना करें जिसमें ज्यादा मात्रा में केमिकल हो।

कई बार मच्छर के ज्यादा होने पर आप अपने कमरे में मच्छर मारने की दवा छिड़क लेते हैं जो होने वाले बच्चे के लिए बिलकुल भी ठीक नहीं होती है। अगर आपको मच्छर मारने की दवा का इस्तेमाल भी करना है तो इसके लिए आप या तो बहुत ही कम मात्रा में इसका छिड़काव करें या फिर आप उस कमरे में जाने से 1 या 2 घंटे पहले ही छिड़क लें।

अक्सर कीटनाशकों को हटाने के लिए मुथबोल का इस्तेमाल किया जाता है और नुक्कड़ और क्रेनियों में बदबू को बेअसर कर दिया जाता है, जिसमें 98% नेप्थलीन होता है, जो हकीकत में एक तरह से जहर ही है। इसका इस्तेमाल करने से चक्कर आना और गर्भ में पल रहे बच्चे में गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं पैदा हो सकती है।