14 सदस्यों वाले महापौर परिषद में छह नए चेहरे और एक निर्दलीय को मौका, 5 पार्षदों को दोबारा शामिल किया गया

0
251

रायपुर . रायपुर निगम के 14 सदस्यों वाले महापौर परिषद (एमअाईसी) की घोषणा सोमवार को मेयर एजाज ढेबर ने कर दी है। पिछली एमआईसी में शामिल 5 पार्षदों को दोबारा भी मौका दिया गया है, हालांकि उनके विभाग बदल दिए गए। इन्हें मिलाकर 8 सीनियर पार्षद एमअाईसी में रखे गए हैं। पहली बार चुनकर आए 4 पार्षदों को भी एमआईसी में शामिल कर अनुभव और युवा जोश का तालमेल बिठाया गया है। यही नहीं, निगम में कांग्रेस का महापौर बनने में भूमिका निभाने वाले एक निर्दलीय पार्षद को भी महापौर परिषद में सदस्य बनाकर उपकृत किया गया है। खास बात ये है कि दैनिक भास्कर ने एक दिन पहले ही एमअाईसी के सभी 14 नाम और उनके विभाग बता दिए थे, जो हूबहू घोषित हुए हैं।

मेयर ढेबर ने ज्ञानेश शर्मा को पीडब्ल्यूडी विभाग की महत्वपूर्ण जिम्मेदारी दी है। वे पूर्व मेयर डा. किरणमयी नायक की एमअाईसी में थे, लेकिन पिछला पार्षद चुनाव नहीं लड़ा। इसी तरह, पिछली एमआईसी में स्वास्थ्य विभाग के अध्यक्ष रहे श्रीकुमार मेनन को टाउन प्लानिंग की जिम्मेदारी सौंपी गई है। सतनाम पनाग को जलकार्य और नागभूषण राव को स्वास्थ्य विभाग दिया गया है। अंजनी राधेश्याम विभार को राजस्व विभाग का दायित्व दिया गया है। रितेश त्रिपाठी को सामान्य प्रशासन विभाग का प्रभार दिया गया है।

पहली बार जीतकर एमआईसी में
चुनाव जीत कर निगम पहुंचे चार पार्षदों को पहली बार में ही एमआईसी में शामिल कर लिया गया। युवा कांग्रेस के आकाश तिवारी को संस्कृति व पर्यटन और सुरेश चन्नावार उद्यानिकी विभाग की जिम्मेदारी दी गई है। दोनों को उत्तर विधायक कुलदीप जुनेजा की नजदीकी का फायदा मिला है। द्रोपती पटेल को महिला व बाल विकास विभाग दिया गया है। निर्दलीय पार्षद जितेंद्र अग्रवाल भी पहली बार पार्षद बने हैं। मेयर इलेक्शन में उनकी भूमिका को देखते हुए उन्हें खेलकूद एवं युवा कल्याण विभाग दिया गया है।

युवा कल्याण विभाग पर विवाद
खेलकूद और युवा कल्याण विभाग को लेकर कुछ विवाद की स्थिति है। दरअसल, पिछली एमआईसी के 14 विभागों में इसे शिक्षा विभाग में रखा गया था। निगम के स्कूलों का जब शिक्षा विभाग में मर्ज हुआ तब पूर्व महापौर प्रमोद दुबे ने इस विभाग को ही खत्म कर दिया था और शिक्षा विभाग के अध्यक्ष रहे गोवर्धन शर्मा को भारमुक्त कर दिया था। विवाद हाईकोर्ट तक गया। यह माना जा रहा था कि निगम में अब 13 विभाग ही रहेंगे। सोमवार को मेयर एजाज ढेबर ने इस विभाग में निर्दलीय पार्षद जितेंद्र अग्रवाल को शामिल कर विभाग का पुनर्गठन कर दिया। मेयर ढेबर ने स्पष्ट किया है कि कोर्ट से उनके पास इस संबंध में कोई निर्णय है।

जानिए किसे क्या विभाग मिला

पार्षद विभाग

ज्ञानेश शर्मा लोककर्म विभाग

रितेश त्रिपाठी सामान्य प्रशासन व विधि विधायी

श्रीकुमार मेनन नगरीय नियोजन व भवन अनुज्ञा

अंजनी विभार राजस्व

सतनाम पनाग जलकार्य

नागभूषण राव खाद्य, लोक स्वास्थ्य व सफाई

अजीत कुकरेजा अग्निशमन, विद्युत व यांत्रिकी

समीर अख्तर वित्त, लेखा व अंकेक्षण

सहदेव व्यवहार गरीबी उपशमन, समाज कल्याण

द्रोपती पटेल महिला व बाल विकास

सुंदर जोगी अनुसूचित जाति व जनजाति

जितेंद्र अग्रवाल खेलकूद व युवा कल्याण

सुरेश चन्नावार पर्यावरण व उद्यानिकी

आकाश तिवारी संस्कृति, पर्यटन और मनोरंजन