इस साल एक दिन में सबसे ज्यादा 43 मौतें, लगातार तीसरे दिन 4 हजार से अधिक मरीज

0
237

रायपुर. प्रदेश में कोरोना से हालात बिगड़ते चले जा रहे हैं। स्थिति यह है कि संक्रमण तो बढ़ रहा है, मौतों का ग्राफ भी चढ़ता चला जा रहा है। इस साल 24 घंटे में सर्वाधिक 43 मौतें रिपोर्ट हुईं, जिनमें अकेले रायपुर में 15 जानें गईं। मरने वालों में अधिकांश लोगों को सांस की तकलीफ थी। जबकि 2 लोग जब अस्पताल पहुंचे तो डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। स्थिति यह है कि बीते 5 दिनों में 171 यानी औसतन हर दिन 34 जानें जा रही हैं। कई मौतें तो रिपोर्ट भी नहीं हो पा रही है। उधर, प्रदेश में 4174 मरीज रिपोर्ट हुए। लगातार 3 दिनों से 4 हजार से अधिक मरीज मिल रहे हैं।

स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव कहना है कि हमारा पूरा फोकस टेस्टिंग और ट्रेस्टिंग को लेकर है। जब तक हम यह पता नहीं करेंगे कि वायरस का प्रायमरी सोर्स क्या है, तब तक हल नहीं निकल पाएगा। बाबा कहां गए थे, संक्रमण कहां से लेकर आए, 5 लोग संक्रमित हुए तो कैसे हुए? अगर, हम यह पता नहीं कर पा रहे हैं तो अंधेरे में चल रहे हैं। सिंहदेव ने कहा कि 30-40 प्रतिशत मृत्यु इसलिए हो रही है क्योंकि हम देर से जांच करवा रहे हैं। होम आईसोलेशन में भी हैं, निगरानी बढ़ाने की जरुरत है। एक दिन भी घर में रूकना, मतलब हालात बिगडऩे की स्थिति है।

लॉकडाउन एक मिनट का फैसला है
शुक्रवार को रायपुर पत्रकारों के सवाल के जवाब में स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने कहा कि लॉकडाउन का फैसला कलेक्टरों को लेना है। लोगों को जो परेशानी होगी, खासकर गरीबी रेखा के नीचे जीवन यापन करने वाले लोगों को समस्या आता है। वरना लॉकडाउन तो एक मिनट का फैसला है। अगर, हम कंटेनमेंट जोन चिन्हिंत नहीं कर पा रहे हैं और सभी तरफ से मरीज आ रहे हैं तो लॉकडाउन पर विचार होता है।

बीते 5 दिनों में संक्रमण और मौतों की रफ्तार
तारीख- संक्रमित- मौतें
29 मार्च- 1423- 20
30 मार्च- 3108- 35
31 मार्च- 4563- 39
01 अप्रैल- 4617- 34
02 अप्रैल- 4174- 43

रायपुर- 1405- 66999
छत्तीसगढ़- 4174- 353804

कुल संक्रमित- 357978
एक्टिव- 28987
डिस्चार्ज- 321873
मौतें- 4247
टेस्ट- 34075