Delhi Police vs Lawyers: दिल्ली की सभी 6 अदालतों में कामकाज ठप, नहीं होगी कोई सुनवाई

0
112

नई दिल्ली : राजधानी दिल्ली की सभी 6 जिला अदालतों में वकीलों की हड़ताल शुक्रवार को भी जारी है। 2 नवंबर को दिल्ली के तीस हजारी कोर्ट परिसर में वकीलों और पुलिसवालों के बीच बवाल के बाद पुलिसवालों पर कार्रवाई की मांग को लेकर वकील शुक्रवार को भी कामकाज ठप रखे हुए हैं।

इससे पहले बृहस्पतिवार को भी जारी रही, प्रदर्शन नहीं हुआ, लेकिन वकील अदालत में किसी की पैरवी के लिए नहीं गए। तीस हजारी कोर्ट में तो सुरक्षा का जिम्मा वकीलों ने ही संभाल लिया है। प्रवेश द्वार पर लगी स्कैनिंग मशीन वकीलों ने ही चलाई और अदालत में आ रहे लोगों की सुरक्षा जांच भी खुद की। वकीलों की हड़ताल शुक्रवार को भी जारी है।

शनिवार को तीस हजारी कोर्ट परिसर में वकीलों और पुलिस के बीच हुए बवाल के बाद से ही मामला शांत नहीं हो रहा है। सोमवार से हड़ताल जारी है, सभी जिला अदालतों में काम-काज ठप है। गुरुवार को कड़कड़डूमा अदालत में वादी आए और अपने केस की अगली तारीख लेकर चले गए, लेकिन वकील अदालतों में पेश नहीं हुए। वकीलों ने पुलिस कर्मियों को अदालत में नहीं आने दिया, लेकिन वादियों को आने से नहीं रोका। वहीं रोहिणी कोर्ट में भी हड़ताल का असर मिला-जुला रहा। साकेत कोर्ट परिसर में तो वकीलों ने लंगर भी लगाया। राउज एवेन्यू में भी किसी मसले पर सुनवाई नहीं हो सकी।

दिल्ली की सभी जिला अदालतों में पिछले सोमवार से ही वकीलों की हड़ताल जारी है, जिससे मामलों की सुनवाई नहीं हो रही है। तिहाड़ समेत अन्य जेलों में बंद कैदी अदालतों में पेश नहीं किए जा रहे हैं। राउज एवेन्यू को छोड़ बाकी छह अदालतों साकेत, तीस हजारी, पटियाला, द्वारका, रोहिणी व कड़कड़डूमा के लॉकअप में ताले जड़े हुए हैं और कैदी पेशी के लिए नहीं लाए जा रहे हैं। अदालतों में हड़ताल के कारण जज खास मामलों की सुनवाई के लिए रोजाना तिहाड़ समेत अन्य जेलों में जा रहे हैं। अधिकांश मामलों में तारीख दे रहे हैं। दिल्ली पुलिस के आला अधिकारी व विभिन्न बार एसोसिएशनों के पदाधिकारी वकीलों व पुलिसकर्मियों के विवाद को सुलझाने में जुटे हुए हैं।

बृहस्पतिवार को डीसीपी ने अपने-अपने जिले में बार एसोसिएशन के पदाधिकारियों के साथ बैठक कर मामला सुलझाने की कोशिश की, लेकिन कोई नतीजा नहीं निकला। दोनों तरफ से मामले को जल्द सुलझाने की कोशिश की जा रही है। यदि रविवार तक हालात सामान्य हो जाएंगे तो सोमवार से अदालतों में केसों की सुनवाई शुरू होगी।