कमलनाथ के मंत्री का दावा- कांग्रेस 105 विधायकों के साथ साबित करेगी बहुमत

0
140

भोपाल: मध्य प्रदेश में कमलनाथ सरकार की आज अग्निपरीक्षा होनी है. आज विधानसभा में फ्लोर टेस्ट होना है. कांग्रेस पार्टी के 22 विधायक इस्तीफा दे चुके हैं. कमलनाथ की सरकार स्पष्ट तौर पर अल्पमत में है. लेकिन कांग्रेसी नेताओं का दावा अलग-अलग है. दिग्विजय सिंह शुक्रवार सुबह बेंगलुरु से भोपाल लौट आए. वह बेंगलुरु में बागी विधायकों से मिलने गए थे, लेकिन उनकी मुलाकात नहीं हो पाई. वह भोपाल एयरपोर्ट से निकल रहे थे तो पत्रकारों ने उनसे कमलनाथ सरकार को लेकर सवाल पूछा. दिग्विजय ने उत्तर में कहा कि फ्लोर टेस्ट आज होने पर हमारे पास बहुमत नहीं है.

दूसरी ओर कमलनाथ सरकार में जनसंपर्क मंत्री पीसी शर्मा ने शुक्रवार सुबह प्रेस कॉन्फ्रेंस कर दावा किया कि कांग्रेस पार्टी 105 विधायकों के साथ बहुमत साबित करेगी. उन्होंने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा, ‘बीजेपी ने 16 विधायकों को बंधक बनाकर हार्स ट्रेडिंग नही एलिफेंट ट्रेडिंग की है. फ्लोर टेस्ट में संख्या हमारे साथ है. जब फ्लोर टेस्ट होगा, हाथ हमारे पक्ष मे उठेंगे.’ उधर कांग्रेस नेता सज्जन सिंह वर्मा ने ट्वीट किया, ‘आखरी बॉल पर छह रन चाहिए. कप्तान क्रीज पर डटे हुए हैं. पूरी टीम और प्रदेश की जनता को कप्तान कमलनाथ पर पूरा यकीन. सत्यमेव जयते.’

मुंह चलाने औैर सरकार चलाने में अंतर होता है: नरोत्तम मिश्रा
भाजपा नेता नरोत्तम मिश्रा ने पीसी शर्मा के दावे पर कहा, ‘मैंने सुना है उनके नेता (दिग्विजय सिंह) ने कह दिया है कि उनके पास बहुमत नहीं है. शायद पीसी शर्मा ने सुना नहीं है. सीएम प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताएंगे बीजेपी खराब पार्टी है, भाजपा की चिंता क्यों करते हो अपनी पार्टी की चिंता करो. सरकार चलाने और मुंह चलाने मे अंतर होता है. दिग्विजय सिंह के बयान से लगता है शायद सीएम पहले ही इस्तीफा दे देंगे. दे दें तो अच्छा है.’ नरोत्तम मिश्रा से जब पूछा गया कि मध्य प्रदेश में भाजपा सरकार बनाती है तो उनकी भूमिका क्या होगी? इस पर उन्होंने कहा, ‘मेरी भूमिका एक कार्यकर्ता की है. पार्टी संगठन और नड्डा जी तय करेंगे कि मेरी भूमिका क्या होगी.’