छत्तीसगढ़ सरकार ने पिछड़े, कमजोर और जरूरतमंद को सबसे पहले राहत देने की शुरुआत की: राज्यपाल उईके

0
135

रायपुर. देश के 71वें गणतंत्र दिवस के अवसर पर राज्यपाल अनुसुइया उईके ने रायपुर में हुए कार्यक्रम में ध्वजारोहण किया। इस दौरान राज्यपाल ने परेड की सलामी ली। पहली बार परेड का नेतृत्व महिला आईपीएस (अंकित शर्मा) ने किया।

2500 रुपए में धान खरीदी जैसे फैसलों से किसानों का मनोबल बढ़ा

पुलिस लाइन में कार्यक्रम में राज्यपाल अनुसुइया उईके ने कहा- छत्तीसगढ़ सरकार ने प्रदेश के सबसे पिछड़े अंचलों, सबसे कमजोर तबकों और सबसे जरूरतमंद लोगों को सबसे पहले राहत देने की शुरआत की है। लोहंडीगुड़ा में जमीन वापसी, 4 हजार रुपए प्रति मानक बोरा तेंदूपत्ता संग्रहण परिश्रमिक, निर्दोष आदिवासियों को आपराधिक प्रकरण से मुक्ति, मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान, मुख्यमंत्री हाट बाजार क्लिनिक योजना जैसे अनेक फैसलों के अच्छा असर हुआ है।

राज्यपाल ने कहा- 25 सौ रुपए में धान खरीदी और कर्जमाफी जैसे फैसलों से किसानों का मनोबल बढ़ा है। स्कूली शिक्षा की गुणवत्ता बढ़ाने के लिए राज्य सरकार करीब 15 हजार स्थाई शिक्षक-शिक्षिकाओं की भर्ती कर रही है। इस दौरान राज्यपाल ने 8 पुलिसकर्मियों को मेडल प्रदान किया। अपनी उत्कृष्ट सेवाओं के लिए मेडल हासिल करने वालों में एडिशनल एसपी आईपीएस इंदिरा कल्याण इलेसेला, इंस्पेक्टर रमाकांत तिवारी से लेकर एसआई दिवंगत विनोद कुमार कौशिक शामिल हैं।