Coronavirus in Indore : इंदौर में सबसे ज्यादा कोरोना मरीज मिलने से सरकार चिंतित

0
319

इंदौर/भोपाल। मध्य प्रदेश में कोरोना वायरस के सबसे ज्यादा मरीज इंदौर में सामने आने और दो व्यक्तियों की मौत की खबर से सरकार चिंता में आ गई है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंत्रालय में हुई समीक्षा बैठक में इंदौर की स्थिति पर चिंता जताते हुए निर्देश दिए कि वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारियों का दल बनाकर स्थिति पर नजर रखी जाए। रोग से बचाव के प्रयासों को अंजाम देने के लिए पूरी टीम को सक्रिय किया जाए। वहीं, काम के लिए जो मजदूर दूसरे स्थानों पर गए हैं और लॉकडाउन में फंसे हैं, उनकी सहायता के लिए हर जिले में एक अधिकारी तैनात किया जाए। दूसरे स्थानों पर काम के लिए गए जो लोग घर वापस लौटना चाहते हैं, उनकी पूरी मदद सुनिश्चित की जाए। इसके लिए 104 और 181 नंबर पर मदद के लिए फोन भी किया जा सकता है।

इसी तरह प्रदेश के बाहर फंसे लोग राज्य कंट्रोल रूम के नंबर 0755-2411180 पर फोन कर सहायता प्राप्त कर सकते हैं। बैठक में बताया गया कि मुख्यमंत्री ने इंदौर की स्थिति पर चिंता जताते हुए कहा कि वरिष्ठ अधिकारियों की टीम बनाकर नजर रखी जाए और हर वह कदम उठाए जाएं, जो रोकथाम के लिए जरूरी हों। कर्फ्यू का पूरी तरह से पालन कराया जाए। सोशल डिस्टेंसिंग के लिए लोगों को प्रेरित किया जाए। कोरोना प्रभावितों के आसपास पूरी तरह लॉकडाउन रहे। प्रमुख सचिव स्वास्थ्य पल्लवी जैन गोविल ने बताया कि जांच और इलाज का काम सभी जिलों में चल रहा है।

प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा संजय शुक्ला ने बताया कि राज्य में वेंटिलेटर की संख्या बढ़ाने का प्रयास किया जा रहा है। मेडिकल कॉलेज और बड़े निजी अस्पतालों को अधिकृत करके उपचार का काम किया जा रहा है। पीपीई किट्स और रोग संक्रमण की जांच के लिए उपचार विधियों को पूरी क्षमता से उपयोग में लाया जाए। बैठक में बढ़ती रोगियों की संख्या पर चिंता जताते हुए कहा कि पूरी क्षमता से जांच का काम हो और लैब की क्षमता भी बढ़ाई जाए। मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस ने बैठक में बताया कि नियंत्रक खाद्य एवं औषधि प्रशासन ने पूरे राज्य में पीपी किट्स और मास्क की आपूर्ति के बहुत कम समय में अच्छे प्रयास किए हैं। अन्य विभाग और एजेंसियां भी इसी तरह काम करें। प्रमुख सचिव स्वास्थ्य ने बताया सभी संभागों तक थ्री लेयर मास्क पहुंचाए गए हैं। जिलों में तीन लाख से अधिक मास्क पहुंच गए हैं। जागरूकता के लिए प्रचार-प्रसार किया जा रहा है।