किसान चौपाल लगाकर दिग्विजय सिंह ने कहा.. ध्यान देने की जरूरत है

0
341

रतलाम. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता व राज्यसभा सदस्य दिग्विजयसिंह ने जिले के बिलपांक के करीब रेनमऊ में किसान चौपाल की। किसानों से किए सीधे संवाद में सिंह ने कहा कि उपज के बाद अब हारवेस्ट टेक्नोलॉजी पर ध्यान देने की जरूरत है। जिले में कम से कम चार प्रमुख उपज को लेकर काम होना चाहिए।

किसान नेता डीपी धाकड़ के खेत पर हुई किसान चौपाल में करीब एक दर्जन से अधिक किसानों ने अपनी समस्या बताई। तीतरी, मथुरी, सिमलावदा आदि के कृषक इस दौरान उपस्थित रहे। सिमलावदा के बिहारीलाल पाटीदार ने कहा कि एक्सपोर्ट करना है तो जैविक खेती की जरूरत है। असल मे जैविक के नाम पर भी रसायन वाली खेती हो रही है। अब शुद्ध के लिए युद्ध की जरूरत है। 55 किसानों ने प्लास्टिक तालाब मार्च 2020 में बनाए पर सत्यापन के अभाव में अब तक भुगतान नहीं हुआ।

एमएएच योजना में रतलाम को शामिल तो किया पर टारगेट नही दिया गया। प्याज के कृषक अशोक पाटीदार ने प्याज के बारे में विस्तार से बताया। स्टोर के लिए जगह का अभाव है। दाम कम होते है व लागत नहीं मिलती क्योंकि सरकार आयात करती है। बाजार में खराब बीज के मिलने से उपज खराब हुई है। दिग्विजय सिंह ने सवाल किया कि प्याज का पावडर के प्लांट लग रहे है, इसके बारे में विचार किया जाए। खेती में लाभ पाना है तो फसल को रीसायकल किया जाए। अमेरिका में उपज को जो खाता है उसमें 70 प्रतिशत रीसायकल वाले के पास जाता है जबकि 30 प्रतिशत लाभ किसान तक जाता है। इसलिए यह जरूरी है अब बदलाव किया जाए।

दिग्विजय सिंह ने कहा कि खेती में लाभ पाना है तो फसल को रीसायकल किया जाए। अमेरिका में उपज को जो खाता है उसमें 70 प्रतिशत रीसायकल वाले के पास जाता है जबकि 30 प्रतिशत लाभ किसान तक जाता है। इसलिए यह जरूरी है अब बदलाव किया जाए। ताराचंद पाटीदार सिमलावदा, जगदीश पाटीदार अंबोदिया आदि ने अपनी बात रखी।

बिहारी पाटीदार जो सिमलावदा के कृषक है ने उन्नत खेती द्वारा की गई शिमला मिर्च के बारे में बताया। जयंतीलाल पाटीदार तीतरी ने एप्पल बेर व जामफल की उन्नत खेती के बारे में बताया। इस दौरान किसान चौपाल में सिंह के अलावा दिल्ली से डॉक्टर अजय भलारा, सया कुमारी, विधायक मनोज चावला, शहर कांग्रेस अध्यक्ष महेंद्र कटारिया ने किसानों से चर्चा की।