अर्जुन कपूर की तरह अपने वर्कआउट को बनाएं एक क्रिएटिव चैलेंज, जानें ‘बॉल माउंटेन क्लाइंबिंग’ करने के फायदे

0
161

अर्जुन कपूर की वेट-लॉस जर्नी लोगों के लिए किसी मोटिवेशन स्टोरी से कम नहीं है। वो जिस तरह से हर दिन अपने इस हंक बॉडी के लिए महनत करते हैं, वो सच में शानदार है। हाल ही में उन्होंने अपने इंस्टा पर विडियो शेयर किया है, जिसे देखकर मालूम पड़ता है कि कैसे वो हर दिन बड़ी क्रिएटिविटी के साथ फिटनेस का नया चैलेंज लेते हैं। फिटनेस के सबसे चुनौतीपूर्ण पहलुओं में से एक है वेट लिफ्टिंग, जिसमें बुनियादी तरीके से कुछ उठाना या कुछ लेना और इसे मोड़ देना, जैसी कई मजेदार चुनौती भी अपना सकते हैं। अभिनेता अर्जुन कपूर, जिन्हें आखिरी बार ‘पानीपत’ फिल्म में देखा गया था, ने इंस्टाग्राम पर अपनी ऐसी ही एक दिनचर्या की झलक दी है।

रिप्ड लुक के लिए कर रहे हैं मेहनत
34 वर्षीय, जिसने अतीत में वजन के मुद्दों से निपटा है, को रिप्ड लुक पाने के लिए जिम में प्रयास करते हुए देखा जा सकता है। पहले में, वह रस्सियों की मदद से फैट बर्न करने की कोशिश कर रहे हैं और मांसपेशियों के निर्माण के लिए अलग-अलग तरह की चीजों का कर रहे हैं। दूसरे वीडियो में, इशाकजादे अभिनेता को बोसु बॉल माउंटेन का प्रयास करते हुए देखा जा सकता है। आइए जानते हैं उनके इन अभ्यायों के बारे में विस्तार से।

बॉल माउंटेन क्लाइंबिंग को वेट-लॉस के लिए एक बहुत अच्छा एक्सरसाइज माना जाता है। नीली रबर की बॉल ओर नीचे की ओर रखें और जमीन पर एक बूसू बॉल फेकें। ध्यान से, प्रत्येक तरफ एक हाथ रखें। पुश-अप पोजिशन लें। सुनिश्चित करें कि आपका कोर तंग है और कूल्हों का स्तर सही हो। अपने बाएं घुटने को अपने सीने की तरफ लाएं। अपने मूल को अनुबंधित करने पर ध्यान दें। अपने पैर को जमीन पर रखें और दूसरी तरफ इसे दोहराएं। धीरे-धीरे इसे करते रहें। इसके अलावा आप इसे ऐसे भी आसानी से कर सकते हैं:

-अपनी बाहों के बीच एक पैर रखते हुए बोसु गेंद पर संशोधित पुश-अप स्थिति में शुरू करें।
-अपने कूल्हों को नीचे और अपने कोर को लगे रखें और पैरों को वैकल्पिक करते हुए अपने घुटनों को अपनी छाती की ओर चलाएं।

-अभ्यास के साथ जारी रखें जब तक कि सेट की आवश्यक संख्या पूरी न हो जाए।
– 60 सेकंड के लिए जितनी जल्दी हो सके इसे इसी तरह थाम कर रखें और करें।

बोसु बॉल माउंटेन क्लाइम्बर्स एक जिम वर्कआउट एक्सरसाइज है, जो एब्स और मांशपेशियों के बनावट को लक्षित करता है और इसमें छाती और कंधे और ट्राइसेप्स भी शामिल हैं। इस अभ्यास को सही ढंग से करने के लिए सही निर्देशों का पालन करें। इसके अलावा इनके अन्य फायदो में हैं-

जब बोसु गेंद को गुंबद की तरह फर्श के सामने की तरफ स्थित किया जाता है, तो यह एक अस्थिर सतह बन जाती है, जो संतुलन बढ़ाने में मदद करती है। जब इसे गुंबद की तरह ऊपर की तरफ रखा जाता है, तो बोसु गेंद को लचीलेपन में सुधार के लिए जाना जाता है क्योंकि यह व्यायाम के मध्यवर्ती स्तर के रूप में पूरे कोर को लक्षित करता है। इस तरह ये शरीर के संतुलन और लचीलापन को बढ़ाने में मदद करती है।

यौगिक अभ्यास के रूप में पर्वतारोही एक ही समय में कई मांसपेशी समूहों और जोड़ों को काम करने के लिए एक प्रभावी तरीका माना जाता है, जो कार्यात्मक फिटनेस में सुधार करता है। इतना ही नहीं ये एक्सरसाइज पेट और कंधों और ट्राइसेप्स को शामिल करते हुए एब्स को और बेहतर बनाने में मदद करते हैं।