सीएम शिवराज ने पूर्व सीएम कमलनाथ से मांगा सहयोग

0
234

भोपाल. मध्य प्रदेश में कोरोना की बढ़ती रफ्तार के बीच सीएम शिवराज सिंह ने प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ से बात की। कोरोना के खिलाफ जंग में सहयोग की अपील की। उन्होंने कहा, इस पर कोई भी मतभेद नहीं होने चाहिए। उन्होंने राजनीतिक दलों व समाजसेवियों से अपील की, इस समय सारे मतभेद भूल जाओ। सीएम ने मध्य भारत के आरएसएस के क्षेत्र संघ चालक अशोक सोहनी, गायत्री परिवार के चिन्मय पंड्या, पतंजलि योग संस्थान के बाबा रामदेव, सेवा भारती के रमेंद्र, विद्यार्थी परिषद के चेतस सुखडिया सहित अन्य संगठनों के प्रमुखों से फोन पर चर्चा कर सहयोग मांगा।

दो डोज लगें तो सेफ
प्रदेश में बढ़ते संक्रमण और मौतों पर चिंताजनक स्थिति बताकर सरकार ने जनता से संभलने की अपील की है। स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव मोहम्मद सुलेमान ने कहा है कि वैक्सीन लगवाइए और सेफ रहिए। वैक्सीन लगाने के बाद कोरोना नहीं होगा इसकी गारंटी नहीं है, लेकिन दो डोज लगने के बाद आप सेफ रहेंगे। दो डोज के बाद कोरोना यदि शरीर में प्रवेश करता भी है, तो उसका उतना असर नहीं होगा।

बढ़ाए जाएंगे 1400 बेड
प्रदेश में करीब 1438 बेड बढ़ाए जाएंगे। इनमें ऑक्सीजन के 6291, आइसीयू 3999, आइसोलेशन 4097 शामिल हैं। वर्तमान में सरकारी अस्पतालों में 12692 बेड पहले से हैं। ऑक्सीजन के 5716, आइसीयू 2879, आइसोलेशन 4097 शामिल हैं। प्राइवेट क्रमश: 5436, 2211 और 4134 बेड हैं, इनमें 40 से 45 फीसदी बेड कोरोना के लिए आरक्षित किए गए हैं।

7 वें स्थान पर है मध्यप्रदेश देश में 3.4 फीसदी केस के साथ 15 गुना केस हुए बढ़कर हफ्तेभर में 26 फीसदी केस इंदौर के
कुल मामलों में 27 फीसदी कोरोना मरीज हैं ऑक्सीजन सपोर्ट पर 42.23 लाख लोगों ने लगवाई बचाव की वैक्सीन 27 फीसदी को वैक्सीन लगी है।

‘ध्यान मोडऩे लगते हैं’
प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने कहा है कि जब भी लोगों को सरकार की जरूरत होती है, तब चुनौतियों का सामना करने के बजाय हमारे शिवराज जी मुद्दों से ध्यान मोडऩे के लिए उपवास-सत्याग्रह जैसे आयोजन करने में लग जाते हैं। शिवराज जी 24 घंटे के लिये स्वास्थ्य आग्रह पर बैठ रहे हैं? पता नहीं इस 24 घंटे के आग्रह की नौटंकी से कोरोना कैसा भागेगा।

वही पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह ने ट्वीट करके कहा कि जो फार्मा कंपनी रेमडेसिविर इंजेक्शन बना रही हैं, उनसे शिवराज जी आप तत्काल चर्चा करें। आज उज्जैन में किसी के पास यह नहीं है। इंदौर में भी कमी देखी जा रही है।