Coronavirus in Chhattisgarh : कोरोना की जंग जीतकर लौटे तो लोगों से की अपील- डरें नहीं, प्रशासन पर रखें पूरा भरोसा

0
115

रायपुर। Coronavirus in Chhattisgarh कोरोना की जंग लड़कर आए भिलाई के 33 वर्षीय युवक इमरान अंसारी ने लोगों से अपील की है कि इस वक्त डरें नहीं, बल्कि प्रशासन पर भरोसा रखकर सतर्कता बरतें।

इमरान ने नईदुनिया से बातचीत में बताया कि 10 मार्च को दुबई से रायपुर लौटा था। एयरपोर्ट पर स्क्रीनिंग के बाद स्वास्थ्य विभाग ने होम आइसोलेशन में रहने के लिए कहा था। सुरक्षा की दृष्टि से परिजन से अलग-थलग और आइसोलेशन के नियमों का भी पालन करता रहा। स्वास्थ्य में थोड़ी परेशानी और लक्षणों को देखकर 23 मार्च को खुद ही एम्स जाकर जांच कराते हुए सैम्पल दिया। 25 मार्च को रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद एम्स में भर्ती हुआ था।

युवक इमरान ने बताया कि एम्स में इलाज के दौरान सुबह नाश्ता, दो समय खाना और शाम को चाय के साथ नाश्ता दिया जाता था। चिकित्सकों का व्यवहार भी इलाज के दौरान बेहतर था। हर घंटे चिकित्सक स्वास्थ्य की जांच करते साथ ही हालचाल पूछते। छह दिन में परिवार की याद तो बहुत आई, लेकिन अस्पताल भी घर और चिकित्सक अपने ही लगने लगे।

स्वास्थ्य को लेकर नहीं दिक्कत

युवक इमरान ने बताया कि उनका स्वास्थ्य बेहतर है। एहतियात के तौर उसे 28 दिनों तक आइसोलेशन के नियमों का पालन करने को कहा गया है। युवक इमरान ने कहा कि वे घर में अभी अकेले हैं, जल्द से जल्द उसके परिजन को भी भेजें, ताकि उनसे मिल सकें।

दुबई में करते हैं काम

युवक इमरान ने बताया कि वे छह साल से दुबई में रहकर गाड़ी चलाने का काम करते रहे हैं। इनका पूरा परिवार इसी पर आश्रित है। युवक ने बताया कि अभी दुबई के हालात भी ठीक नहीं हैं, इसलिए जब परिस्थितियां सामान्य हो जाएंगी, तब वह वापस काम पर दुबई चले जाएंगे।

प्रशासन कर रहा अच्छा काम, रखें भरोसा

युवक इमरान ने कहा कि कोरोना संक्रमण जिस तरह से पूरी दुनिया में फैल रहा है। उसे लेकर राज्य सरकार बेहतर काम कर रही है। इलाज के दौरान हर एक चीज का खयाल रखा गया। मैं लोगों से भी अपील करना चाहता हूं कि लॉकडाउन का पालन करते हुए घर पर ही रहें। जिससे संक्रमण हमारे समाज में न फैले।

बुजुर्ग ने हाथ हिलाकर किया अभिवादन

एम्स से डिस्चार्ज होते हुए रायपुर राम नगर निवासी 68 वर्षीय बुजुर्ग मनबोधन राम साहू हाथ हिलाकर चिकित्सकों का अभिवान किया। बाहर छोड़ने आए चिकित्सा कर्मियों ने उन्हें स्वास्थ्य का ध्यान रखने की सलाह दी। मनबोधन राम ने लोगों से स्वास्थ्य के प्रति सजग रहने की अपील की है। उन्होंने कहा कि जिस परिस्थितियों से वे निकलकर आए थे। उन्हें अंदाजा ही नहीं था, कि इतना अच्छा इलाज मिल पाएगा। लेकिन चिकित्सकों का अपनापन ने उन्हें घर की कमी महसूस नहीं होने दी। एम्स के अधीक्षक डॉ. करन पीपरे ने बुजुर्ग को लेकर कहा कि जीने की इच्छा शक्ति और रोग प्रतिरोधक क्षमता का काफी बेहतर होने थी। इसलिए संक्रमण उसके शरीर में पूरा नहीं फैल पाया है।

घर पर नहीं रख सकते थे, इसलिए किया क्वारंटाइन

स्वास्थ्य विभाग के डॉ. अखिलेश त्रिपाठी ने बताया कि बुजुर्ग 16 परिजन को नया रायपुर के क्वारंटाइन सेंटर में रखा गया है। इन्हें परिजन के साथ अभी 14 दिनों के लिए क्वारंटाइन सेंटर में रखा जाएगा।