आज शाम प्रदेशवासियों को संबोधित करेंगे CM शिवराज, अनलाॅक के संबंध में नागरिकों से मांगे सुझाव

0
100

भोपाल। मध्‍य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान आज शाम प्रदेशवासियों को संबोधित करेंगे। CM शिवराज ने कोरोना अनलाॅक के संबंध में नागरिकों से सुझाव भी मांगे हैं।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान प्रदेश वासियों को बुधवार 26 मई, शाम 7 बजे संबोधित करेंगे। इसका सीधा प्रसारण दूरदर्शन मध्यप्रदेश, क्षेत्रीय टीवी और आधिकारिक सोशल मीडिया चैनल्स पर होगा।

प्रदेश में जनता कर्फ्यू को चरणबद्ध रूप से समाप्त करने एवं अनलॉक किए जाने के संबंध में 31 मई तक सभी नागरिक अपने सुझाव दे सकते हैं।

मुख्यमंत्री ने निर्देश दिये हैं कि “अनलॉक” प्रक्रिया में 5 बातों का पूरा ध्यान रखें।

1-शत प्रतिशत व्यक्ति मास्क लगाएं।

2-अधिक से अधिक टैस्ट करायें।

3- किल कोरोना अभियान जारी रहे तथा सर्दी,खांसी, बुखार आदि के हर मरीज की पहचान कर तुरंत उपचार कराया जाये।

4- कोरोना की लड़ाई जनभागीदारी से लड़ी जाए एवं स्थानीय क्राइसिस मैनेजमेंट समूह अपने ग्राम, कस्बे, शहर के संबंध में निर्णय लें।

5- हर व्यक्ति अनिवार्य रूप से कोरोना अनुरूप व्यवहार करे।

अनलॉक की शर्तें तय करने और अन्य व्यवस्थाओं के लिए बनाए मंत्रियों के छह समूह

प्रदेश में कोरोना कर्फ्यू से एक जून से मिलने वाली राहत का स्वरूप तय करने के लिए सरकार ने मंत्रियों का समूह बनाया है। यह समूह अनलॉक को लेकर देश और दुनिया के विशेषज्ञों से चर्चा करके प्रक्रिया तय करेगा। इसमें यह ध्यान रखा जाएगा कि कोरोना संक्रमण फिर से न बढ़ने पाए। कितनी और कैसे छूट दी जाए, इसको पूरा रोडमैप इस समूह की देखरेख में तैयार होगा। इसी तरह पांच अन्य समूह भी बनाए गए हैं। इस निर्णय की जानकारी मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कैबिनेट बैठक से पहले मंत्रियों को दी। देर रात इन समूहों में शामिल मंत्रियों के नामों की घोषणा कर दी गई। साथ ही निर्देश दिए कि वे प्रभार के जिले में आपदा प्रबंधन समितियों से अनलॉक पर बात करके सुझाव लें ताकि जब प्रविधान लागू हों तो वे उनका पालन करने में प्रभावी भूमिका निभाएं।

गृहमंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने बताया कि मुख्यमंत्री ने बैठक से पहले कोरोना की स्थिति के बारे में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि प्रदेश कोरोना संक्रमण को नियंत्रण करने की स्थिति में आता जा रहा है। मंगलवार को पॉजिटिव प्रकरण 2422 आए हैं। 7373 स्वस्थ होकर घर गए हैं। स्वस्थ होने की दर 92.68 प्रतिशत हो गई है।

कई जिलों में संक्रमण की दर पांच फीसद से नीचे आ गई है। 31 मई तक संक्रमण की दर को शून्य पर लाना है। वहीं, सामान्य गतिविधियां प्रारंभ करनी हैं। इसके लिए अनलॉक की प्रक्रिया प्रारंभ करेंगे और जांच की प्रक्रिया साथ-साथ चलती रहेगी। कोविड केयर सेंटर भी चलते रहेंगे। इलाज की व्यवस्था जारी रहेगी ताकि संक्रमित व्यक्ति को इलाज मिल जाए और संक्रमण भी न फैल पाए। इसके लिए आपदा प्रबंधन समितियों को सक्रिय रखना होगा। अनलॉक की प्रक्रिया में इनकी भागीदारी भी सुनिश्चित की जाएगी। मंत्री अपने प्रभार वाले जिलों में दौरा करें और ग्राम स्तर तक की समितियों से संवाद करें। इस काम में विधायकों को भी लगाया जाए। ग्रामीणों की राय को अनलॉक की प्रक्रिया में शामिल किया जाएगा।

लापरवाह हुए तो बढ़ा संकट

मुख्यमंत्री ने बताया कि कोरोना की पहली लहर नियंत्रित होने के बाद सब निश्चिंत हो गए। हमारे राजनीतिक, धार्मिक और सामाजिक आयोजन प्रारंभ हो गए। सभी स्तर पर लापरवाही हुई तो कोरोना संकट बढ़ गया। तीसरी लहर को रोकना है तो उसके लिए अनलॉक एकदम से नहीं करेंगे। आयोजन, मेल, शादी-विवाह से लेकर सभी तरह के कार्यक्रम फिर प्रारंभ हो गए तो संकमण फिर बढ़ जाएगा। मास्क पहनना और शारीरिक दूरी का पालन करना अनिवार्य रहेगा। इसका उल्लंघन करने वालों से सख्ती से निपटा जाएगा। बाजार कैसे खोला जाएगा, दुकानदार किस तरह से व्यवहार करेंगे, कर्मचारियों के लिए क्या प्रोटोकॉल होगा, यह सब तय किया जाएगा। अनलॉक के लिए गठित समूह यह सब देखेगा।

अस्पतालों के प्रबंधन और सुविधाओं के लिए समूह

मुख्यमंत्री ने कहा कि एक समूह कोविड अनुकूल व्यवहार कैसे हो, यह तय करेगा। समूह यह सुझाव देगा कि बाजार में व्यापारी और ग्राहक के बीच व्यवहार कैसा होना चाहिए। किस तरह संक्रमण की रोकथाम के लिए प्रबंध किए जाएंगे क्योंकि आर्थिक गतिविधियों को फिर प्रारंभ करने के लिए अब बाजारों को खोलना होगा। लोगों के मन से टीकाकरण को लेकर भ्रांतियां दूर करके उन्हें जागरूक करने संबंधी कदम उठाने के लिए सलाह देने के लिए भी समूह बनाया गया है। इसी तरह अस्पतालों के प्रबंधन और सुविधाओं को उपलब्ध कराने के साथ ऑक्सीजन सहित अत्यावश्यक चीजों की उपलब्धता सुनिश्चित करने वाली समूह बनाया गया है। दरअसल, दूसरी लहर में इंजेक्शन से लेकर कई चीजें की कमी का सामना सरकार को करना पड़ा था। ऐसे हालात फिर न बनें, इसके लिए पहले से इंतजाम किए जाएंगे।

देर रात मंत्री समूहों का किया गठन

  1. कोरोना कर्फ्यू को सुनियोजित तरीके से समाप्त करने संबंधी सुझाव देने के लिए –

डॉ. नरोत्तम मिश्रा गृह, मीना सिंह मांडवे जनजातीय कार्य, कमल पटेल कृषि, बृजेंद्र प्रताप सिंह खनिज साधन, डॉ. महेंद्र सिंह सिसोेदिया पंचायत एवं ग्रामीण विकास, अरविंद सिंह भदौरिया सहकारिता, हरदीप सिंह डंग नवीन एवं नवकरणीय ऊर्जा और सुरेश धाकड़ लोक निर्माण राज्यमंत्री। समन्वयक – अपर मुख्य सचिव गृह डॉ.राजेश राजौरा।

  1. अस्पतालों के सुनियोजित प्रबंधन के लिए सुझाव देने के लिए –

विश्वास सारंग चिकित्सा शिक्षा, डॉ.प्रभुराम चौधरी स्वास्थ्य, भारत सिंह कुशवाह उद्यानिकी एवं खाद्य प्रसंस्करण, इंदर सिंह परमार स्कूल शिक्षा, रामकिशोर कांवरे आयुष, बृजेंद्र सिंह यादव लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी और ओपीएस भदौरिया नगरीय विकास एवं आवास राज्यमंत्री। समन्वयक – अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य मोहम्मद सुलेमान।

  1. टीकाकरण का काम समयसीमा में कराने संबंधी सुझाव देने के लिए –

विश्वास सारंग चिकित्सा शिक्षा, डॉ.प्रभुराम चौधरी स्वास्थ्य, प्रद्युम्न सिंह तोमर ऊर्जा, प्रेम सिंह पटेल पशुपालन एवं डेयरी, ऊषा ठाकुर पर्यटन, संस्कृति और रामखेलावन पटेल पिछड़ा वर्ग कल्याण मंत्री। समन्वयक – अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य मोहम्मद सुलेमान।

  1. मेडिकल ऑक्सीजन उत्पाद में आत्मनिर्भर बनाने की रणनीति तैयार करने के लिए –

गोपाल भार्गव लोक निर्माण, बिसाहूलाल सिंह खाद्य नागरिक आपूर्ति, गोविंद सिंह राजपूत राजस्व एवं परिवहन, ओमप्रकाश सकलेचा सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम, अरविंद सिंह भदौरिया सहकारिता, डॉ.मोहन यादव उधा शिक्षा और राजवर्धन सिंह दत्तीगांव उद्योग मंत्री। समन्वयक – प्रमुख सचिव उद्योग संजय शुक्ला।

  1. जन जागरुकता एवं आवश्यक प्रचार-प्रसार के लिए –

डॉ.नरोत्तम मिश्रा गृह एवं जेल, विश्वास सारंग चिकित्सा शिक्षा, प्रद्युम्न सिंह तोमर ऊर्जा, ऊषा ठाकुर पर्यटन एवं संस्कृति और इंदर सिंह परमार स्कूल शिक्षा मंत्री। समन्वयक – प्रमुख सचिव जनसंपर्क शिवशेखर शुक्ला।

  1. कोविड अनुकूल व्यवहार के लिए –

तुलसीराम सिलावट जल संसाधन, विजय शाह वन, जगदीश देवड़ा वाणिज्यिक कर, यशोधरा राजे सिंधिया खेल एवं युवा कल्याण, भूपेंद्र सिंह नगरीय विकास एवं आवास, ऊषा ठाकुर पर्यटन एवं संस्कृति, अरविंद सिंह भदौरिया सहकारिता मंत्री। समन्वयक – अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य मोहम्मद सुलेमान।