सीएम शिवराज ने कहा, मध्य प्रदेश की सौर ऊर्जा दर देश में न्यूनतम

0
270

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि मध्य प्रदेश में सौर ऊर्जा की दर देश में न्यूनतम है। नवाचार और तकनीक के बल पर प्रदेश में दो रुपये 14 पैसे प्रति यूनिट सौर ऊर्जा का टैरिफ प्रदान किया जा रहा है। निवेशक राज्य के मित्र हैं। मैं उनका मध्य प्रदेश में स्वागत करता हूं। सौर ऊर्जा से बिजली की कमी दूर करने, निवेश आकर्षित करने और पर्यावरण संरक्षण के हरसंभव प्रयास जारी हैं। मुख्यमंत्री मिंटो हाल में आयोजित कार्यक्रम में बोल रहे थे। उन्होंने आगर, शाजापुर और नीमच में 1500 मेगावाट की सौर परियोजनाओं के विकासकों को लेटर आफ अवार्ड प्रदान किए। उन्होंने कहा कि प्रदेश में एशिया का सबसे बड़ा सोलर प्लांट नीमच में है। रीवा के आदर्श प्लांट से दिल्ली मेट्रो को सौर ऊर्जा दी जा रही है। अब ओंकारेश्वर में विश्व का सबसे बड़ा फ्लोटिंग सोलर पार्क स्थापित किया जा रहा है। प्रदेश में उद्योगों के लिए बेहतर वातावरण है। यहां दक्ष मानव संसाधन, राज्य सरकार की अच्छी टीम और एक टेबल पर त्वरित समाधान की सुविधा उपलब्ध है।

उन्होंने कहा कि ताप विद्युत ग्रहों के लिए कोयला जरूरी है, जिससे जंगलों पर संकट बढ़ता है। आने वाली पीढ़ी को यदि हमें प्रकृति को संरक्षित रूप से सौंपना है तो ग्रीन एनर्जी-क्लीन एनर्जी की ओर ध्यान देना होगा। सौर ऊर्जा कभी समाप्त नहीं होगी। मुख्यमंत्री ने आगर के 550 मेगावाट सोलर पार्क के लिए बीम पाव एनर्जी प्राइवेट लिमिटेड और अवाड़ा एनर्जी लिमिटेड को, शाजापुर के 450 मेगावाट सोलर पार्क के लिए एनटीपीसी रिन्यूएबल तथा तले टटूताई सोलर प्रोजेक्ट को और नीमच के 500 मेगावाट सोलर पार्क के लिए टीपी सौर्या लिमिटेड मुंबई तथा अल जोमेह एनर्जी एंड वाटर कंपनी दुबई को लेटर आफ अवार्ड प्रदान किए।