CM शिवराज और उमा भारती की सभा में लगे नारे- बंद करो मतदान, बिक जाते हैं श्रीमान…

0
267

रायसेन/ मध्य प्रदेश में उपचुनाव के दिन नज़दीक आते आते यहां सक्रीय पार्टियां जनसभाओं और कार्यक्रमों के दम पर लोगों को साधने लगी हैं। हालांकि, कई क्षेत्रों में दल बदलने वाले नेताओं के चलते भाजपा को विरोध का सामना भी करना पड़ रहा है। ऐसे ही एक विरोध का सामना रायसेन जिले में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और पूर्व भाजपा नेत्री उमा भारती को भी सभा के दौरान करना पड़ा। सभा में लोगों ने दल बदलने वाले कांग्रेस विधायकों के दम पर प्रदेश की सत्ता में आई भाजपा के खिलाफ नारेबाजी की। जहां एक तरफ सभा में सीएम प्रादेशिक और क्षेत्रीय सौगातों का ऐलान कर रहे थे। वहीं, भीड़ से लोगों ने ‘बंद करो मतदान बिक जाते हैं श्रीमान…’ के नारे लगाने शुरु कर दिये। घटना का वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

एंटी हार्स ट्रेडिंग फ्रंट के कार्यकर्ताओं ने लगाए नारे

दरअसल, रायसेन ज़िले की सांची विधानसभा सीट पर ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ कांग्रेस से दल बदलकर डॉक्टर प्रभु राम चौधरी भाजपा में शामिल हुए हैं। इस सीट से भाजपा की ओर से उपचुनाव में उन्हीं को उम्मीदवार घोषित किया है। उपचुनाव को लेकर मंगलवार देर शाम भाजपा ने एक सभा आयोजित की, जिसमें मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा की दिग्गज नेत्री उमा भारती शामिल हुई थीं। सभा के दौरान एंटी हार्स ट्रेडिंग फ्रंट के कार्यकर्ताओं ने कांग्रेस छोड़ भाजपा में शामिल हुए प्रभुराम चौधरी के ख़िलाफ़ नारेबाजी शुरु कर दी। इन कार्यकर्ताओं ने ‘बन्द करो मतदान बिक जाते हैं श्रीमान’ के नारे लगाए। पुलिस ने नारे लगाने वाले चार लोगों को हिरासत में ले लिया, हालांकि, देर रात उन्हें छोड़ भी दिया गया।

जीत की हर संभव कोशिश

बता दें कि, मंगलवार को कांग्रेस विधायक गोवर्धन दांगी के निधन के बाद मध्य प्रदेश में अब 28 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव होने हैं। वहीं, उपचुनाव के बाद प्रदेश की सत्ता में रहने के लिए कांग्रेस हो या भाजपा दोनो ही दलों को अधिक से अधिक सीटें जीतने की जरूरत है। ज्योतिरादित्य सिंधिया और कांग्रेस के 27 विधायकों के दम पर फिर से सरकार बनाने वाली भाजपा उपचुनाव में ज्यादा से ज्यादा सीटें जीतने की कोशिश कर रही है। इसके तहत ही जगह जगह सभा व कार्यक्रमों का आयोजित की जा रही हैं। रायसेन के सांची में भी इसके तहत ही सभा आयोजित की गई थी, जिसमें सीएम शिवराज समेत कई दिग्गज नेताओं को विरोध का सामना करना पड़ा।