दिल्ली में बोले CM भूपेश, केजरीवाल के 5 साल के बराबर छत्तीसगढ़ में एक साल में हुआ काम

0
116

रायपुर। दिल्ली में कांग्रेस उम्मीदवार के पक्ष में प्रचार के मोर्चे पर उतरे मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने केजरीवाल सरकार पर जमकर निशाना साधा। भूपेश बघेल ने नांगलोई विधानसभा सीट पर प्रचार के दौरान कहा कि दिल्ली में अरविंद केजरीवाल ने जितना काम पिछले पांच साल में नहीं किया, उससे कहीं ज्यादा हमने एक साल में छत्तीसगढ़ में किया है।

उन्होंने कहा कि दिल्ली दिल वालों की है, दिल जोड़ने वालों का है और दिल जोड़ने को काम कांग्रेस करती है। दिल्ली में कांग्रेस सरकार बनाएं, घोषणा पत्र में जो-जो वादा किया है, उसे पूरा करेगी। कांग्रेस प्रत्याशी मंदीप सिंह के लिए प्रचार करते हुए मुख्यमंत्री बघेल ने कांग्रेस जो कहती है, वो करती है।

पूरे हिंदुस्तान में धान की कीमत सबसे कहीं छत्तीसगढ़ में है। छत्तीसगढ़ में आज मंदी नहीं है। देश में आटोमोबाइल सेक्टर में 19 फीसद की गिरावट है, फैक्ट्रियां आधी चल रही है, आधी बंद , मोटरसाइकिल शो रूम के शटर गिर चुके हैं। लेकिन छत्तीसगढ़ में आटोमोबाइल सेक्टर में 36 परसेंट की ग्रोथ है।

सोना-चांदी की बिक्री में 84 प्रतिशत की बढ़ोतरी है। रियल स्टेट में डेढ़ गुना वृद्धि है, क्योंकि हमने गरीबों, किसानों के जेब में पैसा डाला। मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए बघेल ने कहा कि यहां केंद्र में बैठी सरकार आरबीआइ से पैसा निकालती है और कार्पोरेट हाउस को दे देते हैं। आम जनता को कुछ नहीं मिलता है।

मोदी सरकार जनता को सिखा रही अंग्रेजी

आज भारतीय जनता पार्टी देश को लोगों को अंग्रेजी सिखा रही है। पहले कार्यकाल में क्या हुआ था, स्टार्टअप इंडिया, स्टैंडअप इंडिया, मेक इन इंडिया, डिमोनेटाइजेशन, सर्जिकल स्ट्राइक, एयर स्ट्राइक और दूसरे कार्यकाल में 370 और 35 ए के बाद सीएबी, सीएए, एनपीआर, एनआरसी, यह सब अंग्रेजी सिखाने का काम नरेंद्र मोदी और अमित शाह कर रहे हैं।

आदिवासी कहां से लाएगा दस्तावेज

मुख्यमंत्री बघेल ने सीएए और एनआरसी पर चर्चा करते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ में 44 प्रतिशत जंगल है। 40 प्रतिशत गरीब लोग रहते हैं। जंगल में आदिवासी लोग थोड़ी सी बात के लिए दूसरे गांव में बस जाते हैं। ऐसे में उससे सर्टिफिकेट मांगोगे तो वे कहां से लाएंगे। आपके पास आधार कार्ड है, वोटर आईडी है, ड्राइविंग लाइसेंस है, बिजली का बिल है। मकान के दस्तावेज हैं, फिर क्यों दस्तावेज मांग रहे हैं। माता-पिता के जन्मतिथि और जन्मस्थान लाइए। जो लोग दिल्ली में यूपी, हरियाणा से आए हैं, वे लोग कहां से लाएंगे।