भ्रष्टाचार पर छत्‍तीसगढ़ के सीएम बघेल की विपक्ष को चुनौती, आप दें जानकारी, हम करेंगे कार्रवाई

0
90

रायपुर। अधिकारियों के तबादला और पदस्थापना में विपक्ष की ओर से लगाए जा रहे भ्रष्टाचार के आरोपों पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने सोमवार को सदन में पलटवार किया है। अपने विभाग की अनुदान मांगों पर चर्चा के दौरान बघेल ने विपक्ष को चुनौती देते हुए कहा कि आपकी सरकार में हिम्मत नहीं थी। यह हमारी सरकार है। जानकारी दीजिए, निष्पक्ष कार्रवाई होगी।

विधानसभा सत्र

  • दी नसीहत- आप जिम्मेदार जनप्रतिनिधि हैं, केवल सुर्खियां बटोरने के लिए न लगाएं आरोप
  • मुख्यमंत्री के विभागों की 12,681 करोड़ से अधिक रुपये की अनुदान मांगें पारित

मुख्यमंत्री ने भाजपा विधायकों को नसीहत देते हुए कहा कि आप सभी जिम्मेदार जनप्रतिनिधि हैं। केवल सुर्खियां बटोरने के लिए आरोप मत लगाइए। सदन ने चर्चा के बाद मुख्यमंत्री के विभिन्न विभागों की 12,681 करोड़ 75 लाख 82 हजार रुपये की अनुदान मांगें पारित कर दी गईं।

इससे पहले विपक्ष की तरफ से लगाए गए आरोपों का बघेल ने चुन-चुनकर जवाब दिया। उन्होंने कहा कि हमारे तीन साल के शासनकाल में बड़े-बड़े अधिकारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई हुई है। हम न्याय के पक्षधर हैं। डा. रमन सिंह और हमारे कार्यकाल में कार्रवाई का आंकड़ा देख लीजिए।

उन्होंने दोषियों को बचाया, हमने न्याय किया। बघेल ने कहा कि अधिकारी जनता के लिए है, जनता की सेवा के लिए है। अगर वह अपने काम में लापरवाही करता है तो हम उसे तुरंत हटा देंगे। प्रदेश की जनता जानती है कि डा. रमन सिंह और उनके रिश्तेदारों ने कितना भ्रष्टाचार किया है। 15 साल में एक भी भ्रष्टाचारी पर कोई कार्रवाई नहीं हुई।

आप फोर्स के लिए सड़कें बनाते थे, हम आदिवासियों के लिए बना रहे

बघेल ने कहा कि भाजपा ने 15 साल बस्तर के लोगों को सिर्फ पांचवीं तक पढ़ाया। नक्सल समस्याओं से निपट नहीं सके। हमारे राज में आज बस्तर शिक्षा, रोजगार और नवोन्मेष के क्षेत्र में आगे बढ़ रहा है। उन्होंने विपक्ष से कहा कि आप बस्तर में फोर्स के लिए सड़कें बनाते थे, हम आदिवासियों के लिए बना रहे हैं।

आपने सारा कैंप नक्सल क्षेत्र के आउटर में लगाए। हमने इन क्षेत्रों में काम किया। हमारी कोशिश से नक्सल समस्या सिमट गई। मुख्यमंत्री ने कहा कि पूरा सत्र निकल गया, एक दिन भी नक्सल की चर्चा नहीं हुई। यही हमारी सफलता है।