मुख्‍यमंत्री शिवराज सिं‍ह चौहान ने पूरा किया वादा विवेक सागर को डीएसपी बनाने के आदेश जारी

0
101

इटारसी । ओलिम्पियन विवेक सागर को उप पुलिस अधीक्षक बनाने का वादा सीएम शिवराज सिंह चौहान ने पूरा कर दिया है। सोमवार को सीएम घोषणा के तहत गृह विभाग के अवर सचिव अन्नू भलावी ने कुछ शर्तों के साथ मप्र संघ लोक सेवा आयोग के नियमों को शिथिल करते हुए विवेक को डीएसपी बनाने के आदेश जारी कर दिए हैं। इस नियुक्ति के लिए विवेक को अपने दस्तावेज पेश करना होगा, साथ ही पुलिस विभाग के प्रशिक्षण केंद्र भौंरी में प्रशिक्षण भी लेना होगा।

इस आदेश में उल्लेख किया गया है कि विवेक को इस नियुक्ति के तहत पहले भारत पेट्रोलियम में प्रथम श्रेणी अधिकारी के पद से इस्तीफा देना होगा। नियुक्ति आदेश में साफ किया गया है कि सरकार द्वारा सामान्य डयूटी (जीडी) संवर्ग में विवेक को पुलिस विभाग के द्वारा तय वेतन भत्तों एवं पेंशन की पात्रता होगी।

विवेक अब डीएसपी

जरूरी कार्यवाही के बाद जल्द ही हाकी खिलाड़ी विवेक सागर खाकी वर्दी में पुलिस अफसर के रूप में नजर आएंगे। विवेक ने इस खुशी की खबर मिलते ही कहा कि सरकार के इस तोहफे से में बहुत ही खुश हूं। इस तरह के प्रयासों से नए खिलाड़ियों में नया जोश आएगा।

कार में दिया था ऑफर

उल्लेखनीय है कि ओलिम्पिन विवेक की टोक्यो से वापसी के बाद राज्य सरकार द्वारा आयोजित समारोह में जाते वक्त सीएम शिवराज ने कार में साथ बेटे विवेक को डीएसपी बनने का ऑफर दिया था विवेक को लगा कि डीएसपी बनने से उनका हॉकी अभ्यास रुक जाएगा, लेकिन सीएम ने हंसते हुए कहा था तुम्हें पीएचक्यू में नहीं बैठना है अपनी हॉकी चलती रहेगी सरकार बढ़िया वेतन भत्ते औए सुविधा देगी यह सुनकर विवेक ने यह प्रस्ताव मंजूर कर लिया। विवेक को सांतवे वेतनमान के मुताबिक 56000-177500 का वेतनमान मिलेगा। विवेक की इस नियुक्ति से उनके पूरे परिवार में जश्न का माहौल बना हुआ है। घोषणा के अनुसार सरकार जल्द की विवेक को राजधानी भोपाल की किसी कॉलोनी में जल्द ही एक सर्वसुविधायुक्त आवास भी देगी। अपने संबोधन में विवेक ने कहा था कि सरकार से जो पैसा मिला है उससे वे अपनी माँ के लिए एक अच्छा मकान बनाना चाहते हैं यह सुनकर शिवराज ने कहा कि प्रदेश में जहां विवेक कहेगा वहां की किसी भी अच्छी कॉलोनी में एक मकान भी देंगे। पिछले दिनों विवेक को घर पसंद करने के लिए भी सीएम हाउस के अधिकारियों ने भोपाल आमंत्रित किया था।