Chhattisgarh Panchayat Election : जिला पंचायत अध्यक्ष-उपाध्यक्ष उम्मीदवार चयन के मोर्चे पर उतारे गए मंत्री-विधायक

0
135

रायपुर । छत्तीगसढ़ के नगरीय निकाय चुनाव में बेहतर प्रदर्शन को आगे बढ़ाते हुए कांग्रेस ने पंचायत चुनाव में भी बड़ी जीत दर्ज की है। कांग्रेस प्रदेश के करीब 20 जिलों में जिला पंचायत अध्यक्ष बनाने की स्थिति में है। अब अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के प्रदेश प्रभारी पीएल पुनिया के निर्देशानुसार प्रदेश अध्यक्ष मोहन मरकाम ने जिला पंचायत क्षेत्रों में अध्यक्ष एवं उपाध्यक्ष के चुनाव के लिए पर्यवेक्षकों की नियुक्ति की है। संगठन ने मंत्रियों और विधायकों को जिम्मा दिया है। राजधानी रायपुर में मंत्री शिवडहरिया, सरगुजा में टीएस सिंहदेव, बीजापुर में कवासी लखमा, राजनांदगांव में रविंद्र चौबे को जिम्मा दिया है।

मरकाम ने कहा कि पंचायत चुनाव में 400 जिला पंचायत सदस्यों में से 223 स्थान पर कांग्रेस समर्थित उम्मीदवार की जीत हुई है। प्रदेश के 20 जिलों में कांग्रेस का जिला पंचायत अध्यक्ष बनना तय हो गया है। कांग्रेस को बलरामपुर, जशपुर, बस्तर में जिला पंचायत सदस्य चुनाव में भाजपा ने पटखनी दी है।

बीजापुर, सुकमा, कांकेर, नारायणपुर, कोंडागांव, बिलासपुर, मुंगेली, जांजगीर-चांपा, रायगढ़, सरगुजा, बलौदाबाजार, धमतरी, महासमुंद में कांग्रेस का जिला पंचायत अध्यक्ष बनना तय हो गया है। रायपुर जिला पंचायत में कांग्रेस के सात सदस्य जीतकर पहुंचे हैं।

16 सदस्यों में नौ भाजपा के जीते हैं। निवर्तमान जिला पंचायत अध्यक्ष शारदा वर्मा चुनाव हार गई। कवर्धा और राजनांदगांव में कांग्रेस भाजपा के बीच बराबरी पर मुकाबला रहा। राजनांदगांव में मंत्री रविंद्र चौबे और कवर्धा में विधायक अशीष छाबड़ा को पर्यवेक्षक बनाया गया है।

इन नेताओं को बनाया पर्यवेक्षक

कोरिया में बृहस्पति सिंह, सूरजपुर खेलसाय सिंह, बलरामपुर गुलाब कमरो, जशपुर डॉ. प्रीतम राम, रायगढ़ मोतीलाल देवांगन, कोरबा गुरूमुख सिंह होरा, मुंगेली अटल श्रीवास्तव, बिलासपुर करूणा शुक्ला, जांजगीर चांपा सुभाष शर्मा, गरियाबंद रमेश वर्ल्यानी, महासमुंद अमितेष शुक्ल, धमतरी सत्यनारायण शर्मा, बलौदाबाजार बैजनाथ चंद्राकर, बालोद दलेश्वर साहू, दुर्ग धनेन्द्र साहू, बेमेतरा अरूण वोरा, कवर्धा आशीष छाबड़ा, कांकेर दीपक बैज, बस्तर शिशुपाल सोरी, कोंडागांव लखेश्वर बघेल, दंतेवाड़ा विक्रम शाह मंडावी, सुकमा रेखचंद जैन, नारायणपुर संतराम नेताम को पर्यवेक्षक बनाया गया।