राजस्थान को पहली वंदे भारत की सौगात देकर बोले पीएम राजनीति का अखाड़ा बना दिया था रेलवे

0
36

राजस्थान को बुधवार को पहली वंदे भारत एक्सप्रेस मिल गई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वर्चुअली सेमी हाईस्पीड ट्रेन को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। इस अवसर पर पीएम मोदी ने अपने भाषण में कई मुद्दों पर बात की। राजस्थान कांग्रेस संकट से लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और रेलवे उनके भाषण का केंद्र रहे। इस दौरान पीएम ने विपक्षी नेताओं पर हमला बोला। पीएम मोदी ने राजद सुप्रीमो लालू यादव का नाम लिए बिना उन पर तंज कसा और कहा कि लोगों ने तो रेलवे में नौकरी दिलाने का झांसा देकर गरीबों की जमीन छीन ली। बिना नाम लिए पीएम ने कहा कि देश में राजनीतिक स्वार्थ इस कदर हावी था कि रेलवे की भर्ती में बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार होता था। हालत ये थी गरीब लोगों की जमीन छीनकर उन्हें नौकरी का झांसा दिया गया था। पीएम ने कहा कि रेलवे को लोग राजनीति और अपने फायदे के लिए इस्तेमाल करने लगे थे। पीएम ने कहा कि देश का दुर्भाग्य रहा कि रेलवे जैसी महत्त्वपूर्ण व्यवस्था जो लोगों के जीवन का इतना बड़ा हिस्सा है उसे भी राजनीति का अखाड़ा बना दिया गया था। वहीं पीएम मोदी ने कहा कि राजनीतिक संकट से गहलोत जूझ रहे हैं। पायलट और गहलोत के बीच जंग चल रही है। कल ही पायलट अनशन पर बैठे थे।

चुनावी साल में पीएम मोदी ने राजस्थान कांग्रेस की उठापठक का जिक्र कर आग को और हवा दी है। उन्होंने कहा कि आजादी के बाद भारत को बड़ा रेलवे नेटवर्क मिला था। रेलवे के आधुनिकीकरण पर हमेशा राजनीतिक स्वार्थ हावी रहा। रेलवे की सुरक्षा, रेलवे की स्वच्छता, रेलवे प्लेटफॉम्र्स की स्वच्छता, सब कुछ नजरअंदाज कर दिया गया था। इन सारी परिस्थितियों में बदलाव 2014 के बाद से आना शुरू हुआ है। आज हर भारतवासी, भारतीय रेल का कायाकल्प होते देख गर्व से भरा हुआ है। पीएम मोदी ने गहलोत से कहा कि आपके दोनों हाथों में लड्डू हैं। रेल मंत्री और रेलवे बोर्ड के चेयरमैन दोनों राजस्थान के हैं। रोड के साथ राजस्थान में हमारी सरकार रेल कनेक्टिविटी को भी सर्वोच्च प्राथमिकता दे रही है।

मुख्यमंत्री बोले, हमारा फोकस महंगाई कम करना

राजस्थान में सचिन पायलट और अशोक गहलोत के बीच फिर से सियासी दंगल शुरू हो गया है। बुधवार को एक प्रेस कान्फ्रेंस में सीएम गहलोत ने पायलट के विरोध पर पूछे गए सवालों को यह कहते हुए टाल दिया कि उनकी सरकार का ध्यान महंगाई कम करने पर है और इससे उनका ध्यान नहीं भटकेगा। उन्होंने पिछली बीजेपी सरकार के दौरान भ्रष्टाचार के मामलों में सरकार की निष्क्रियता के पायलट के आरोप को भी खारिज करते हुए कहा कि राजस्थान एंटी करप्शन ब्यूरो ने कई भ्रष्ट अधिकारियों के यहां छापे मारे हैं, ऐसा देश में किसी दूसरी जगह पर नहीं हुआ है।