कोरोना से जान गंवाने वाले मीडिया कर्मियों के आश्रितों को मिलेगा पांच लाख

0
278

रायपुर। छत्तीसगढ़ सरकार ने कोविड-19 के कारण जान गंवाने वाले पत्रकारों के परिजनों के लिए पांच लाख रुपये की वित्तीय सहायता की घोषणा की है। राज्य सरकार उन पत्रकारों को भी पैसे की प्रतिपूर्ति करेगी, जिन्हें कोविड के कारण अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

मुख्‍यमंत्री भूपेश बघेल ने खुद ट्वीट कर इसकी जानकारी साझा की। सोमवार दिन में ट्वीट आते ही मीडिया जगत ने इसे सकारात्‍मक और सही फैसला बताया। बता दें कि कोरोना की चपेट में मीडिया कर्मी भी आए। राज्‍य सरकार ने मीडिया कर्मियों को फ्रंटलाइन वर्कर की श्रेणी में रखा। साथ ही वैक्‍सीनेशन के लिए अलग से व्‍यवस्‍था तक की थी।

बता दें कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने अपने बजट भाषण 2021-22 में ही मीडिया कर्मी की असामयिक मृत्यु पर दी जाने वाली आर्थिक सहायता राशि को दो लाख रुपए से बढ़ाकर पांच लाख रुपए किये जाने की घोषणा की थी। मुख्यमंत्री की घोषणा के अनुरूप आर्थिक सहायता पर क्रियान्वयन शुरू कर दिया गया है।

यह सहायता संचार प्रतिनिधि कल्याण सहायता नियमों के तहत दी जाएगी। इसके अतिरिक्त जो मीडिया कर्मी कोविड से पीड़ित होने पर अस्पताल में भर्ती होकर इलाज कराए हैं, उनके इलाज में आये खर्च की प्रतिपूर्ति भी नियमों के तहत राज्य शासन करेगा। कोविड पीडित संचार प्रतिनिधियों के परिवारो की जानकारी जनसंपर्क संचालनालय द्वारा एकत्र की जी रही है।

कोरोना से दिवंगत मीडिया कर्मी के आश्रित परिजनों या इलाज कराने वाले मीडियाकर्मी निर्धारित प्रपत्र मे आवेदनपत्र अभिलेखों सहित संबंधित जिला जनसंपर्क कार्यालय में जमा कर सकते हैं। मीडिया कर्मियों को यह आर्थिक सहायता देने पत्रकार कल्याण कोष समिति की बैठक शीघ्र ही बुलाई जा रही है।

ज्ञातव्य हो कि अन्य राज्यों से काफी पहले मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने अपने बजट भाषण 2021-22 में मीडिया कर्मी की असामयिक मृत्यु पर संचार प्रतिनिधि कल्याण सहायतार्थ नियम के तहत आर्थिक सहायता राशि को दो लाख रुपए से बढ़ाकर पांच लाख रुपए किये जाने की घोषणा की थी। मुख्यमंत्री बघेल की घोषणा के अनुरूप जनसंपर्क विभाग द्वारा नियमों में आवश्यक सुधार कर राजपत्र में प्रकाशन के लिए भेजा जा चुका है।