‘छत्तीसगढ़ में बापू के पदचिन्ह’, सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा वीडिया

0
122

रायपुर। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर उन्हें पुष्पांजलि अर्पित करने के लिए बनाया गया वीडियो ‘छत्तीसगढ़ में बापू के पदचिन्ह” सोशल मीडिया में जमकर वायरल हो रहा है। 24 घंटे में ही 19 हजार से अधिक लोगों ने इसे देखा है।

इसे छत्तीसगढ़ सरकार के ऑफिशियल फेसबुक पेज पर जारी किया गया है। 387 लोगों ने इस वीडियो को शेयर किया है, जबकि 80 से अधिक ने टिप्पणी की है। प्रसिद्ध रंगकर्मी और बस्तर बैंड के संयोजक पद्मश्री सम्मान प्राप्त अनूप रंजन पांडेय ने भी इस वीडियो की सराहना की है।

उन्होंने कहा है कि गांधीजी के छत्तीसगढ़ प्रवास से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारियां कलात्मक और प्रभावी ढंग से प्रस्तुत की गई हैं। प्रसिद्ध मानव वैज्ञानिक, संस्कृति और संग्रहालय में उल्लेखनीय भूमिका निभाने वाले अशोक तिवारी ने इस वीडियो पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि छत्तीसगढ़ के संदर्भ में गांधीजी को लेकर जिस खूबसूरती और गरिमामय तरीके से इसे दिखाया गया है, वह काबिले तारीफ है। इसके लिए मैं बधाई देता हूं।

इस वीडियो में दुलर्भ फोटोग्राफो को बहुत ही अच्छी तरह से दर्शाया गया है। वाइस और फिल्म की एडिटिंग बहुत सुंदर तरीके से की गई है। सभी लोगों को इस वीडियो को देखना चाहिए, ताकि छत्तीसगढ़ में गांधीजी का जो संदर्भ रहा है, उसकी जानकारी सभी को हो सके। वहीं कमेंट्स बॉक्स में इस वीडियो के लिए मुख्यमंत्री की सराहना करने वालों की भी कमी नहीं है।

बापू की छत्तीसगढ़ से जुड़ी याद

इस वीडियो को जनसंपर्क विभाग ने स्थानीय निर्माता के माध्यम से तैयार कराया है। वीडियो में बापू के छत्तीसगढ़ प्रवास और उनके आदर्श और विचारों को बहुत ही खूबसूरती से प्रस्तुत किया गया है। जमकर वायरल हो रहे इस वीडियो में बापू के छत्तीसगढ़ के धमतरी जिले के कंडेल प्रवास, जिसमें उन्होंने अंग्रेजों द्वारा किसानों पर लगाए गए सिंचाई कर के विरोध में कंडेल नहर सत्याग्रह किया, उसे दिखाया गया है।

छत्तीसगढ़ के इस आंदोलन की सफलता से महात्मा गांधी को अहिंसक आंदोलन की प्रेरणा मिली। दुर्ग में रखा बापू का चरखा, दुर्ग के मोहनदास वाकलीवाल स्कूल के बच्चों से मुलाकात, मोतीबाग का खादी मेला, अछूतोद्धार यात्रा, गंजडबरी का सतनामी आश्रम, जैतूसाव मठ, जहां गांधीजी ने सभा की, मौहदापारा के सफाई कर्मचारी और राजकुमार कॉलेज के विद्यार्थियों से मुलाकात, राजिम, धमतरी और बिलासपुर का प्रवास, बैतलपुर का कुष्ठ आश्रम प्रवास, बापू के आदर्शों सत्य, समरसता और सांप्रदायिक सद्भाव, बापू के ग्राम स्वराज के लक्ष्य को साधने छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा शुरू की गई सुराजी ग्राम योजना को इस वीडियो में रोचक ढंग से प्रस्तुत किया गया है।

बापू की करुणा को हमने सरकार का मूलमंत्र बनाया

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बापू को पुष्पांजलि अर्पित करते हुए वीडियो में कहा है कि राष्ट्रपिता महात्मा गांध्ाी को याद करने, नमन करने, श्रद्धासुमन अर्पित करने से ही हमारा काम खत्म नहीं होता, बल्कि यहां से हमारा काम शुरू होता है। बापू की करुणा को हमने सरकार का मूलमंत्र बनाया है। मुख्यमंत्री ने राज्य सरकार की कल्याणकारी योजनाओं को लेकर भी बात की है।