Coronavirus Chhattisgarh News : जहां भर्ती थे अजीत जोगी उसी अस्पताल में मिला कोरोना मरीज

0
292

रायपुर। Coronavirus Chhattisgarh News : राजधानी के जिस अस्पताल में पूर्व मुख्यमंत्री स्व. अजीत जोगी भर्ती थे, वहां कोरोना मरीज मिलने के बाद हड़कंप मच गया। दरअसल इस अवधि में जोगी को देखने मुख्यमंत्री, मंत्री, विधायक समेत सैकड़ों लोग गए थे। अब कोरोना पॉजिटिव मिलने के बाद स्वास्थ्य विभाग के सामने कांटेक्ट हिस्ट्री खंगाले समेत कई तरह की समस्या खड़ी हो गई है।

दरअसल सोमवार को अस्पताल में भर्ती धमतरी के मरीज का 28 मई को सैम्पल लेकर जांच के लिए भेजा गया था। सोमवार को जांच में पॉजिटिव आने के बाद अस्पताल के वार्ड को सील कर दिया गया है।

इधर रायपुर के पचपेड़ी नाका के समीप मौजूद सुपरस्पेशलिटी अस्पताल में बस्तर की भर्ती महिला मरीज भी कोरोना पॉजिटिव आई। इसके अलावा रायपुर में कोरोना के मरीज सामने आए। इसमें गुढ़ियारी के एक पुरुष और राजेंद्र नगर की महिला को तुरंत ट्रेस कर लिया गया। लेकिन बिरगांव में मिले पुरुष मरीज की रिपोर्ट आने के बाद उसे भर्ती करने के लिए फोन किया गया तो मोबाइल बंद और घर पर ताला लगा मिला।

उसे खोजने के लिए स्वास्थ्य विभाग की टीम को रातभर भारी मशक्कत करनी पड़ी थी। सीएमएचओ डॉ. मीरा बघेल ने बताया कि मरीजों की कांटेक्ट हिस्ट्री खंगाल रहे हैं। इधर जानकारी मिलने के बाद प्रशासन का अमला बिरगांव, राजेंद्र नगर और गुढ़ियारी के उस क्षेत्र को जहां मरीज मिला है, कंटेनमेंट जोन घोषित करते हुए पूरी तरह से सील कर कर पुलिस की तैनाती की गई है।

एम्स के कैंसर वार्ड में भर्ती मरीज पॉजिटिव

एम्स प्रबंधन ने बताया कि दाएं पैर में कैंसर के ऑपरेशन के लिए मरीज भिलाई से आकर 24 मई को भर्ती हुआ था। 27 मई को लिए गए सैम्पल में टेस्ट पॉजिटिव आने के बाद भर्ती हुए वार्ड को सील कर मरीज को तुरंत आइसालेट किया गया है। इधर एम्स में ही भर्ती मरीज के कोरोना पॉजिटिव आने के बाद कर्मचारियों में हड़कम्प की स्थिति थी। हालांकि प्रबंधन ने चिकित्सा कर्मियों के एहतियात की बात कही है।

राजधानी में मिले तीन मामले

केस-1 : गुढ़ियारी निवासी पुरुष मरीज लिफ्ट मैकेनिक है। कुछ दिन पहले यह कवर्धा के उस हॉटस्पॉट जगह से लौटा था, जहां कोरोना संक्रमित मरीज लगातार मिल रहे हैं। पॉजिटिव आने के बाद इसे भर्ती कर परिवार को क्वारंटाइन किया गया है।

केस-2 : बिरगांव निवासी पुरुष मरीज की ट्रैवल हिस्ट्री यूपी की है। पॉजिटिव आने के बाद उसे भर्ती करने टीम पहुंची। तो घर पर ताला लटका मिला वहीं फोन बंद बता रहा था, जिसकी वजह से इसे भर्ती करने और परिवार को क्वारंटाइन करने के लिए काफी मशक्कत करना पड़ा।

केस-3 : राजेंद्र नगर निवासी महिला मरीज बकरी चराने का काम करती है। लक्षण नजर आने के बाद इसने सैम्पल जांच के लिए दिया था। रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद भर्ती किया गया है। इसकी ट्रैवल हिस्ट्री नहीं है।