सीहोर-हरदा को जोड़ने वाले पुल का CM ने किया निरीक्षण:बोले- इमानदारी से काम करोगे तो कंधे पर बैठाऊंगा, लापरवाही करोगे तो काम करने की क्या जरुरत है

0
55

जो इमानदारी से काम करेगा उसे कंधे पर बैठाऊंगा, पुरस्कृत करूंगा, लेकिन जो लापरवाही बरतेगा उसे काम करने की क्या जरूरत है। कई युवा बेरोजगार हैं, वे काम करेंगे। ये कहना है CM शिवराज सिंह चौहान का। दरअसल, सोमवार को शिवराज सिंह चौहान अचानक सीहोर के ससली गांव पहुंच गए। यहां उन्होंने छापीनेर में बन रहे पुल का निरीक्षण किया, वहीं उन्होंने अधिकारियों से कहा कि 5 जनवरी तक अगर पुल का काम नहीं हुआ तो अधिकारी-ठेकेदार समझ लें। इसके बाद में राशन दुकान में भी गए। वहां उन्होंने निरीक्षण करने के बाद ग्रामीणों से भी बात की। सीएम ने भाजपा नेता के पिता को भी श्रद्धांजलि अर्पित की।

सीहोर आते ही सीएम सबसे पहले ससली गांव गए थे। यहां उन्होंने भाजपा नेता रघुनाथ सिंह भाटी के स्वर्गीय पिता जीवन सिंह भाटी को श्रद्धांजलि अर्पित की। दिवंगत आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना की। जीवन सिंह भाटी का 24 नवंबर को निधन हो गया था।

एरीगेश्न परियोजना का निरीक्षण किया

सीएम बुदनी के छीपानेर लिफ्ट एरीगेश्न योजना का भी निरीक्षण किया। एरीगेश्न योजना सीहोर-देवास के 71 गांवों के किसानों के लिए लाभदायी है। उन्होंने अधिकारियों से पूछा कि किसानों के खेतों तक पानी कैसे पहुंचेगा। कब तक परियोजना शुरू हो जाएगी। भोपाल के अधिकारियों एवं इंजीनीयरों ने सीएम को बताया कि शुरुआत में हम लगभग 20 गांवों पानी पहुंचा देंगे। 20 गांव में पानी पहुंचाने में करीब 15 दिन लग जाएंगे। इसके बाद सीएम पुल और रोड का निरीक्षण किया।

अधिकारियों से कहा- पुल का काम पूरा होते ही फोटो भेजें

सीहोर और हरदा को जोड़ने वाले निर्माणाधीन पुल का निरीक्षण करने के बाद मुख्यमंत्री ने कार्यपालन यंत्री, लोक निर्माण विभाग सुभाष पाटिल को निर्देश दिए कि दिसंबर के अंत तक पुल और सड़क मार्ग का निर्माण कार्य हर हाल में पूरा कर लीजिए। 30 तारीख को अधिकारी मुझे यहां की फोटोग्राफ भेजें। सीएम ने कहा कि 5 जनवरी को मैं पुल का लोकार्पण करूंगा, अगर पुल चालू नहीं हुआ तो ठेकेदार और अधिकारी समझ लें।उन्होंने मौके पर उपस्थित ग्रामीणों की समस्याएं भी सुनी और उनके निराकरण के लिए अधिकारियों को निर्देशित किया। अगर एजेंसी कुछ करे तो उनका गला पकड़ो, यंग हो भाई, थोड़ा एनरजैटिक रहो। सीएम ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि मैं यहां काम देखने आया था। पुल का काम तो पूरा हो गया है। लेकिन सड़क का काम 3 KM का बच रहा है। जो ये 30 दिसंबर तक पूरा कर लेंगे। सीएम ने कहा कि जो इमानदारी से काम करेगा उसे कंधे पर बैठाऊंगा, पुरस्कृत करूंगा, लेकिन जो लापरवाही बरतेगा उसे काम करने की क्या जरूरत है। कई युवा बेरोजगार हैं, वे करेंगे काम।

राशन दुकान का किया निरीक्षण

सीएम छापीनेर स्थित राशन दुकान का निरीक्षण करने भी गए। उन्होंने वहां के संचालक से कहा कि मुझे कैसे पता चलेगा कि राशन मिल भी रहा है या नहीं। जब संचालक ने रजिस्टर दिखाया तो उन्होंने कलेक्टर से कहा- देखो जनता को सही से राशन मिल रहा है या नहीं। उन्होंने वहां रखे अनाज के बोरे भी देखे। इसके बाद बाहर आते वक्त वहां खड़े ग्रामीणों से उन्होंने पूछा कि अनाज मिल रहा है या मैं भेजूं, ये लोग खा जाते हैं तो, जिसपर ग्रामीणों ने कहा कि हमें राशन मिलता है।