सज्जन, जीतू, दिग्विजय के गढ़ में कांग्रेस फेल

0
88

तोमर, सिंधिया, राकेश सिंह के क्षेत्र में हारी भाजपा

भोपाल। नगरीय निकाय चुनाव में भाजपा को भले ही बढ़त मिली हो, लेकिन कई दिग्गजों के क्षेत्र में उसे हार का सामना करना पड़ा। खासतौर पर ग्वालियर नगर निगम क्षेत्र में केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ प्रदेश के मंत्री भारत सिंह कुशवाह की मौजूदगी भाजपा प्रत्याशी को मिले वोटों में नजर नहीं आई। माया सिंह, जयभान सिंह पवैया और अनूप मिश्रा भी कम ही सक्रिय दिखे।

यही स्थिति वरिष्ठ सांसद राकेश सिंह की भी रही। जबलपुर नगर निगम 23 साल से भाजपा के हाथ में था, लेकिन इस बार कांग्रेस के खाते में चला गया। यह भी तब हुआ, जब सीनियर नेताओं की वह कर्मस्थली है। राकेश सिंह लगातार सांसद चुने गए, पर महापौर नहीं जिता पाए। पूर्व मंत्री अजय विश्नोई और शरद जैन भी असर नहीं दिखा पाए। जबलपुर और ग्वालियर में तो भाजपा को नए सिरे से एकजुटता दिखानी ही होगी, ग्वालियर के नतीजों से भाजपा में मुरैना नगर निगम को लेकर भी संशय की स्थिति बन गई है।

इंदौर में अपने विधायक भी नहीं साध पाए शुक्ला

कांग्रेस का भी यही हाल रहा। इंदौर में महापौर प्रत्याशी संजय शुक्ला से बड़े नेता दूरी बनाए रहे। यहां राऊ विधानसभा में वे 30 हजार वोटों से पीछे रहे। अश्विन जोशी, सत्यनारायण पटेल और गोलू अग्निहोत्री के क्षेत्र में भी शुक्ला हारे। सज्जन वर्मा अपने घर में भी कांग्रेस को नहीं जिता पाए। भोपाल में महापौर टिकट दिग्विजय सिंह ने दिलाया था, यहां तीनों कांग्रेस विधायक एकजुट नहीं थे।

पूर्व विधानसभा अध्यक्ष के गढ़ में भी हारी कांग्रेस

खंडवा में पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण यादव सिर्फ कमलनाथ के दौरे के दौरान ही एक बार मंच पर पहुंचे थे। फिर महापौर प्रत्याशी आशा मिश्रा के साथ नहीं दिखाई दिए। सतना पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह और पूर्व विधानसभा उपाध्यक्ष राजेंद्र सिंह का क्षेत्र है। यहां से सिद्धार्थ कुशवाह हार गए। पूर्व विधानसभा अध्यक्ष एनपी प्रजापति के क्षेत्र नरसिंहपुर में कांग्रेस को हार का सामना करना पड़ा।