वीरांगना रानी दुर्गावती ने स्वराज और स्व धर्म के लिए बलिदान दिया: मुख्यमंत्री

0
45

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि वीरांगना रानी दुर्गावती ने धर्म और स्वराज के लिए अपने प्राणों का बलिदान दिया। भारत के शौर्य और स्वाभिमान की प्रतीक वीरांगना रानी दुर्गावती की ‘गौरव यात्रा’ 5 स्थानों से निकाली जाएंगी, जो 26 जून को शहडोल पहुँचेंगी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 27 जून को शहडोल में गौरव यात्रा का समापन करेंगे।
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज बालाघाट से वीरांगना रानी दुर्गावती की वीरता एवं बलिदान गाथा को जन-जन तक पहुँचाने के लिए गौरव यात्रा का शुभारंभ किया। बालाघाट से गौरव यात्रा को लेकर केंद्रीय इस्पात एवं ग्रामीण राज्य मंत्री श्री फग्गन सिंह कुलस्ते रवाना हुए। इस अवसर पर गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा, बालाघाट जिले के प्रभारी तथा नवीन एवं नवकरणीय ऊर्जा और पर्यावरण मंत्री की हरदीप सिंह डंग, आयुष एवं जल संसाधन राज्य मंत्री श्री रामकिशोर नानो कावरे, पिछड़ा वर्ग आयोग अध्यक्ष श्री गौरीशंकर बिसेन, सांसद श्री ढाल सिंह बिसेन, राज्यसभा सदस्य श्रीमती कविता पाटीदार, श्रीमती पंकजा मुण्डे उपस्थित थे। रानी दुर्गावती गौरव यात्राएँ 4 अन्य स्थानों छिंदवाड़ा, दमोह के सिंगरामपुर, सीधी के धौहनी एवं यूपी के कलिंजर फोर्ट से आज प्रारंभ हुईं। यह यात्राएँ रानी दुर्गावती के जीवन से जुड़े सभी प्रमुख स्थानों से होकर गुजरेगी।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में दुनिया में भारत का मान-सम्मान निरंतर बढ़ रहा है। नए शक्तिशाली और गौरवशाली भारत का निर्माण हो रहा है। आज का भारत प्रतिद्वंदी राष्ट्रों को मुँहतोड़ जवाब देने में सक्षम है। प्रधानमंत्री श्री मोदी की नीति है कि हम किसी को छेड़ेंगे नहीं, मगर कोई आँख दिखाता है, तो उसे छोड़ेंगे नहीं। भारत ने जिस प्रकार अत्यंत कम समय में कोविड का टीका बना कर सारी दुनिया को उपलब्ध कराया, यह मानवता की बड़ी सेवा है और इसके लिए प्रधानमंत्री श्री मोदी धन्यवाद के पात्र है।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि देश और प्रदेश में चारों ओर विकास हो रहा है, एक नया अध्याय लिखा जा रहा है। प्रदेश में पहले गड्डों में सड़क थी, सिंचाई के पर्याप्त साधन भी नहीं थे। आज गुणवत्ता पूर्ण सड़कों का जाल है और सिंचाई का रकबा लगातार बढ़ता जा रहा है। सरकार किसानों को हर तरह की सुविधा दे रही है। उन्हें 0% ब्याज पर फसल ऋण दिया जा रहा है। अब गर्मी की धान की भी हम समर्थन मूल्य पर खरीदी करेंगे। किसानों को दी जाने वाली सम्मान निधि की राशि भी अब वर्ष में 6 हजार रुपये कर दी गई है, 6 हजार रूपये केंद्र सरकार देती है, इस प्रकार अब किसान भाइयों को वर्ष में 12 हजार रूपये मिलेंगे। बालाघाट क्षेत्र का तेज गति से विकास हो रहा है। सितंबर में यहाँ मेडिकल कॉलेज का भूमि-पूजन किया जाएगा।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मुख्यमंत्री लाडली बहना योजना में एक हजार रूपये की राशि बहनों के खातों में अंतरित की जा रही है। आगामी समय में इस राशि को बढ़ाकर धीरे-धीरे 1250, 1500, 1750, 2000, 2250, 2500, 2750 और 3000 रूपये कर दिया जाएगा। प्रदेश में रोजगार के अधिक से अधिक अवसर उपलब्ध कराए जा रहे हैं। बड़ी संख्या में सरकारी पदों पर भर्ती की जा रही है। स्व-रोजगार योजनाओं का फायदा दिया जा रहा है और अब युवाओं के लिए मुख्यमंत्री सीखो-कमाओ योजना प्रारंभ की गई है। इसमें पढ़े-लिखे युवाओं को कार्य सीखने के साथ ही प्रतिमाह 8 हजार से 10 हजार रूपये तक मानदेय दिया जाएगा।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि सरकार कक्षा 12वीं के मेधावी बच्चों को लैपटॉप दे रही है। विद्यालयों में प्रथम आने वाली भांजियों को स्कूटी दी जा रही है। अब सरकार ने निर्णय लिया है कि भांजों को भी स्कूटी दी जाएगी।
सांसद श्री वी.डी. शर्मा ने कहा कि मध्य प्रदेश में सरकार हर गरीब के जीवन को बदलने का अभियान चला रही है। हर गरीब को सशक्त और सक्षम बनाना है। सेवा, सुशासन और गरीब कल्याण हमारी सरकार के प्रमुख लक्ष्य हैं। प्रदेश में हर गरीब के सर पर पक्की छत की व्यवस्था की गई है, साढ़े 3 करोड़ गरीबों को मकान उपलब्ध करा दिया गया है। बीमारी के इलाज के लिए आयुष्मान भारत योजना में निजी अस्पतालों में भी वर्ष में 5 लाख रूपये तक के इलाज की सुविधा दी जा रही है।