लीकेज बांध देखने धार पहुंचे कमलनाथ बोले

0
180

कमलनाथ ने बारिश के बीच ग्रामीणों से चर्चा की। इस बुजुर्ग का मकान बाढ़ में बह गया।भोपाल। मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ आज धार ज़िले के कारम नदी पर बने क्षतिग्रस्त बांध को देखने पहुंचे। उन्होंने क्षतिग्रस्त बांध का अवलोकन किया।बरसते पानी के बीच उन्होंने धार ज़िले की धरमपूरी तहसील के दूधी गांव में पहुंचकर प्रभावित ग्रामीण जनों से बातचीत की, उनका हाल जाना, प्रभावितों से मिलकर वास्तविकता को जाना। नाथ ने मीडिया से चर्चा में बताया कि यह डैम भाजपा सरकार के भ्रष्टाचार की निशानी है। उनकी एक बड़ी लापरवाही है।मैं आज ख़राब मौसम में यहाँ आया हूँ, यह देखने कि किस प्रकार शिवराज सरकार के भ्रष्टाचार का डैम फूटा है। इसके कारण कई बेकसूर लोगों को प्रभावित होना पड़ा है। कई प्रभावित लोगों की जीवन रेखा इससे समाप्त हो चुकी है।मेने आज देखा कि किस प्रकार से यह डैम मिट्टी से बना हुआ है। मेने अपनी सरकार में ई-टेंडर को लेकर कार्यवाही शुरू की थी, कार्यवाही चल रही थी कि हमारी सरकार गिरा दी गयी।आज मध्यप्रदेश में भ्रष्टाचार की बाढ़ आयी हुई है।इससे हर वर्ग प्रभावित है। आज हर ठेके में भ्रष्टाचार है , जब तक भ्रष्टाचार ना हो , सौदा पूरा नहीं होता है। आज इतनी सारी योजनाएँ रुकी पड़ी है क्योंकि दलाली का सौदा पूरा नहीं हुआ है। इस डैम से धार के 12 और खरगोन के 8 गाँव प्रभावित हुए है , ज़्यादातर आदिवासी गाँव है। कई प्रभावित किसानो से मिला , जिनकी फसल बह गयी है, घर , बह गये है और वो आज भी जंगल- जंगल भटक रहे है। सरकार ने इनके लिये कोई प्रबंध नहीं किये। यह शिवराज सरकार के भ्रष्टाचार का डैम फूटा है। यह सबूत है कि किस प्रकार पूरे प्रदेश में भ्रष्टाचार की दीमक लग गई है और यह दीमक नौजवानों के भविष्य के साथ खिलवाड़ कर रही है। हर ज़िले में भ्रष्टाचार की व्यवस्था इन्होंने बनायी हुई है। पंचायत से लेकर मंत्रालय तक यह व्यवस्था बनी हुई है।आज हर ठेके में 30-40% कमीशन का खेल चल रहा है।आज प्रदेश भ्रष्टाचार की पटरी पर चल रहा है। मेने प्रदेश में निवेश को लेकर प्रयास किये तब सभी ने कहा कि मध्यप्रदेश में भारी भ्रष्टाचार है , हम आना नहीं चाहते है। जब प्रदेश में निवेश आएगा , तभी प्रदेश का भविष्य सुरक्षित रहेगा।