रावण की नाक पर मुक्का मारने तक चलता रहता है युद्ध; क्या है खास मंदसौर की इस अनोखी परंपरा में

0
75

मंदसौर के इस दशहरा आयोजन के वीडियो में देखा जा सकता है कि राम की सेना और रावण की सेना में युद्ध हो रहा है। दोनों एक दूसरे पर हमला कर रहे हैं। देखने में ये युद्ध हिंसक लगता है।
रावण की नाक पर मुक्का मारने तक चलता रहता है युद्ध; क्या है खास मंदसौर की इस अनोखी परंपरा में

मंदसौर जिले के धमनार में दशहरे का एक विशेष महत्व है। दशहरे के दिन यहां पर राम और रावण की सेना आपस में लड़ती है। राम की सेना रावण की सेना के ऊपर हमला करती है। राम की सेना हमला करते हुए रावण के नाक पर मुक्का मारने की कोशिश करती है। रावण की सेना ऐसा करने से राम की सेना को रोकती है। इस परंपरा को देखने के लिए हजारों लोग वहां पहुंचते हैं।

क्या है खास
यह वर्षों पुरानी परंपरा है। रावण को यहां मंदसौर जिले का जमाई भी कहा जाता है। इसी परंपरा को कायम रखते हुए राम सेना का आदमी जब तक रावण के ऊपर नहीं चला जाता तब तक युद्ध चलता रहता है। जब राम सेना का आदमी ऊपर चढ़कर रावण की नाक पर मुक्का मार देता है तो युद्ध खत्म हो जाता है। मुक्का मारने वाले आदमी को विजेता घोषित किया जाता है। इस पूरे युद्ध को देखने के लिए हजारों की संख्या में लोग जुटते हैं।

मुक्का मारने तक चलता रहता युद्ध
मंदसौर के इस दशहरा आयोजन के वीडियो में देखा जा सकता है कि राम की सेना और रावण की सेना में युद्ध हो रहा है। दोनों एक दूसरे पर हमला कर रहे हैं। देखने में ये युद्ध हिंसक लगता है। लोग एक दूसरे पर आग से भी हमला करते हुए नजर आ रहे हैं। यह परंपरा कई सालों से चली आ रही है। युद्ध तब तक चलता रहता है जब तक राम सेना का कोई आदमी रावण की नाक पर मुक्का नहीं मार देता। मुक्का मारने के बाद यह युद्ध समाप्त हो जाता है।