ये चुनाव हैं भारी, विधानसभा सी तैयारी!

0
65

शहर-शहर दिग्गजों को लगाया भाजपा ने
कांग्रेस ने भी दी जिम्मेदारी
कमलनाथ ने खुद संभाला मोर्चा
संघ भी दे रहा भाजपा को फीडबैक

भोपाल।

मध्यप्रदेश में भले ही ग्राम और नगर सरकार के चुनाव होना है, लेकिन भाजपा और कांग्रेस ने जैसी तैयारियां की है, उससे लगता है लक्ष्य ग्राम-नगर सरकार नहीं, 2023 में होने वाले विधानसभा चुनाव हैं। भाजपा की और से मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और प्रदेश भाजपा अध्यक्ष वीडी शर्मा ने मोर्चा संभाला है तो कांग्रेस की और से कमलनथ किला लड़ा रहे हैं। । सबसे ज्यादा दौरे करने वाले भाजपा के दोनों दिग्गज नेताओं का रोडमैप तैयार होने लगा है। ये प्रदेश की सभी 16 नगर निगम सीटों पर पहुंचेंगे।

हर निकाय तक पहुंचने का लक्ष्य रखा गया है। इसी के तहत बीते बुधवार को दोनों नेता उज्जैन पहुंचे थे। गुरुवार को भोपाल में एक साथ महापौर प्रत्याशी मालती राय के चुनाव कार्यालय का उद्घाटन किया। एक-एक दिन में आधा दर्जन से ज्यादा निकायों तक भी पहुंचेंगे।
कांग्रेस में भी जनसंपर्क के साथ चुनावी सभाएं और रोड-शो की तैयारी है। पार्टी के दिग्गज नेता अब मैदान संभालने जा रहे हैं। इसी कड़ी में प्रदेश कांग्रेस ‘आपका कमलनाथ, आपके साथ’ अभियान शुरू करने जा रही है। शुक्रवार 24 जून को कमलनाथ ने सिंगरौली से इसकी शुरूआत कर भी दी।
कां ग्रेस भाजपा सरकार की असफलता और कमलनाथ सरकार की डेढ़ साल की सफलता को लेकर जनता के पास जाने की रणनीति पर काम कर रही है। कैंपेन तैयार किया गया है। वचन-पत्र भी तैयार हो रहा है। दिग्गज नेताओं को अपने-अपने गढ़ में कांग्रेस का परचम फहराने की जिम्मेदारी दी है। विधायकों से कहा गया है कि वे विधानसभा क्षेत्रों के निकायों में अधिक से अधिक वोट दिलाएं। दिग्गज नेताओं का रोड शो होगा, चुनावी सभाओं का भी कार्यक्रम पीसीसी तैयार कर रही है।
दोनों प्रमुख नेताओं के दौरे को भाजपा के लिए कमजोर रहे बूथ व सीटों के हिसाब से रखा जाएगा। भोपाल में शिवराज पहले दक्षिण पश्चिम विधानसभा में पहुंचेंगे। यह सीट कांग्रेस विधायक पीसी शर्मा के पास है। इसी सीट के हारे भाजपा विधायक उमाशंकर गुप्ता को भाजपा ने निकाय चुनाव प्रबंधन समिति का संयोजक बनाया है। दूसरे जिलों में भी ऐसे ही कांग्रेस विधायकों वाली सीटों को प्राथमिकता पर लिया जा रहा है। इन सीटों पर दोनों नेता एक बार से ज्यादा पहुंच सकते हैं। भाजपा में केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया, नरेंद्र सिंह तोमर, उमा भारती, डॉ. नरोत्तम मिश्रा, भूपेंद्र सिंह, विश्वास सारंग और कमल पटेल भी सभा-रोड शो करेंगे।

कमलनाथ ने 24 जून से ‘आपका कमलनाथ-आपके साथ’ शुरूआत कर की है। इस दौरान वे सिंगरौली की जनता को ‘जन-जन के मन का शहर’- ‘जन-जन के मन का सिंगरौली’ के सूत्र वाक्य के आधार पर विकास के लिए नए अध्याय की शुरुआत करेंगे। 26 जून को सागर में कांग्रेस प्रत्याशी के समर्थन में रोड शो करेंगे। वे 27 जून को सतना में सभा करेंगे। आगामी तिथियों में उज्जैन, ग्वालियर, जबलपुर और छिंदवाड़ा सहित अन्य स्थानों पर रैली, रोड शो और सभा का कार्यक्रम है। कांग्रेस में राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह, पूर्व केन्द्रीय मंत्री सुरेश पचौरी, अरुण यादव, पूर्व मंत्री अजय सिंह, कांतिलाल भूरिया भी चुनाव प्रचार करेंगे।
इससे साफ है कि दोनों ही दल कोई कोर कसर नहीं छोड़ना चाहते, लेकिन बाजी किसके हाथ लगेगी और कौन बाजीगर साबित होगा, इसके लिए हमें नतीजों का इंतजार करना होगा।