मदरसों में पढ़ कोई डॉक्टर-इंजीनियर नहीं बन सकता

0
60

कैलाश विजयवर्गीय ने साधा निशाना

भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय का मानना है, कि मदरसों में कुरान पढ़कर कोई डाक्टर और इंजीनियर नहीं बन सकता है। मदरसों में धर्म की शिक्षा के साथ तकनीकी शिक्षा भी दी जानी चाहिए तभी वहां के छात्र डॉक्टर और इंजीनियर बन सकते है।इसकी शुरुवात में भाजपा शासित असम और उत्तरप्रदेश राज्य में हो चुकी है।
.दरअसल इसके अलावा विजयवर्गीय ने उदयपुर में हुई घटना की निंदा करते हुए कांग्रेस को आड़े हाथो लिया है। विजयवर्गीय ने कहा कि उदयपुर में हुई घटना सामान्य घटना नहीं है। इस घटना के तार आतंक से जुड़े है। समाज में इस घटना का व्यापक असर हुआ है। लोगों को पता लग चुका है, कि कांग्रेस के राज में कोई सुरक्षित नहीं रह सकता। साथ ही भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारणी की बैठक में हुए फैसले को लेकर कहा कि भाजपा घर घर तिरंगा लगाएगी। इसके लिए 20 करोड़ से ज्यादा ध्वज तैयार किए जा रहे है। ताकि देश में राष्ट्रवाद की भावना पैदा हो। हालाकि,तेलंगाना में टीआरएस को लेकर कहा कि राजनीति में संस्कार और मर्यादा का होना बहुत जरुरी है। विजयवर्गीय ने दिग्विजय सिंह की मिसाल दी और तारिफ करते हुए कहा कि दिग्विजय सिंह मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री थे तब वे पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वायपेयी को एयरपोर्ट पर रिसीव करने जाते थे और उनके पैर छूते थे। लेकिन अब टीआरएस और टीएमसी के मुख्यमंत्री प्रोटोकॉल का उल्लंघन करते हुए प्रधानमंत्री को एयरपोर्ट पर रिसीव करने तक नहीं जाते है।