धार में डैम बचाने पहुंची सेना

0
70

सीएम कर रहे निगरानी, पेररल नहर की हो रही खुदाई

धार/भोपाल। धार में कारम नदी पर बन रहे डैम को फूटने से बचाने के लिए अब सेना ने मोर्चा संभाल लिया है। शनिवार को सेना का 15 सीटर हेलिकॉप्टर खरगोन जिले के महेश्वर पहुंचा। यहां हेलिकॉप्टर उतरा, इसमें सेना के 15 जवान सवार थे। जवानों ने यहां के हालात देखे। कुछ देर बाद हेलिकॉप्टर यहां से उड़ा और महेश्वर का एक चक्कर लगाकर लौट गया।

सेना के जवान शुक्रवार रात 2 बजे धार पहुंचे। सुबह 9.30 बजे तक मेजर समेत आर्मी के 40 जवान बांध पहुंच गए। मेजर ने बताया कि सेना के 50 और जवान आने वाले हैं। इधर, दूसरे छोर पर डैम का पानी निकालने के लिए नहर बनाई जा रही है। पहले दो मशीनें खुदाई कर रहीं थीं, अब मशीनों की संख्या बढ़ाकर 5 कर दी गई है। अबतक 30 फीट गहरा गड्‌ढा कर चुके हैं। जमीन में सोलडर पत्थर और मिट्‌टी के कारण मशीनों को काम करने में दिक्कत आ रही है। रॉक कटर मशीन से भी काम लिया जा रहा है।

NDRF की सूरत, वडोदरा, दिल्ली और भोपाल से एक-एक टीम भी रवाना कर दी गई है। हर टीम में 30 से 35 ट्रेंड जवान शामिल हैं। अपर मुख्य सचिव गृह राजेश राजौरा ने बताया कि डैम को लेकर एक हाईलेवल मीटिंग मंत्रालय में बुलाई गई थी। इसमें सेना की मदद लेने का फैसला लिया गया था।

शनिवार को सेना का 15 सीटर हेलिकॉप्टर महेश्वर पहुंचा।
शनिवार को सेना का 15 सीटर हेलिकॉप्टर महेश्वर पहुंचा।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान कर रहे मॉनिटरिंग
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सुबह 11 बजे वल्लभ भवन (भोपाल) पहुंचे। यहां बनाए गए सिचुएशन रूम से उन्होंने डैम और ताजा स्थिति की जानकारी ली। मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, ACS राजौरा, ACS एसएन मिश्रा भी साथ रहे। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बताया कि हमारा प्रयास है कि बाइपास नहर बन जाए, जिससे पानी निकाला जा सके। गुरुवार से लगातार काम चल रहा है। बांध सुरक्षा के राष्ट्रीय विशेषज्ञ से भी हम लगातार संपर्क में हैं। मुख्यमंत्री ने अपने घर जैत जाने का कार्यक्रम भी रद्द कर दिया है। जैत में मुख्यमंत्री के निवास पर तिरंगा उनके परिजन फहराएंगे।

मेजर समेत सेना के 40 जवान बांध पहुंचे हैं।
मेजर समेत सेना के 40 जवान बांध पहुंचे हैं।

तेजी से चल रहा नहर बनाने का काम- जल संसाधन मंत्री
शुक्रवार रात 12 बजे तक यहां रुकने के बाद आज सुबह 8 बजे जल संसाधन मंत्री तुलसी सिलावट, उद्योग संवर्धन मंत्री राजवर्धन सिंह दत्तीगांव, कमिश्नर, कलेक्टर और एसपी आ गए हैं। उनकी मॉनिटरिंग में ही डैम के दूसरे छोर से वैकल्पिक नहर बनाने की कोशिशें चल रही हैं। प्रशासन का मानना है कि इस बनने वाली नहर से एक बार पानी का फ्लो शुरू हो जाएगा, तो डैम में पानी का दबाव कम होता चला जाएगा। इससे नुकसान को कम करने में बहुत मदद मिलेगी। डैम की कुल भराव क्षमता 45 एमसीएम (मिलियन घन मीटर)) की है। अभी इसमें 15 एमसीएम पानी है। यानी क्षमता से एक तिहाई। अगर 5 एमसीएम पानी और कम हो गया तो बांध की दीवार टूटने पर भी पानी के फ्लो को नियंत्रित किया जा सकेगा।

सुबह 8 बजे जल संसाधन मंत्री तुलसी सिलावट, उद्योग संवर्धन मंत्री राजवर्धन सिंह दत्तीगांव समेत अफसर मौके पर पहुंच गए हैं।
सुबह 8 बजे जल संसाधन मंत्री तुलसी सिलावट, उद्योग संवर्धन मंत्री राजवर्धन सिंह दत्तीगांव समेत अफसर मौके पर पहुंच गए हैं।

जांच कमेटी गठित
जल संसाधन मंत्री तुलसीराम सिलावट ने बताया, विशेषज्ञों की जांच समिति गठित कर दी गई है। जल्द रिपोर्ट देने के लिए कहा गया है। लापरवाही पाए जाने पर दोषियों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। रातभर बांध के बाईं तरफ पहाड़ से करीब पानी निकालने के लिए खुदाई होती रही। काम जारी है। स्थिति नियंत्रण में है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के निर्देश पर यहां कैंप किए हुए हैं। संभागायुक्त डॉक्टर पवन शर्मा ने कलेक्टर खरगोन श्रीकुमार पुरुषोत्तम और दूसरे अधिकारियों के साथ आज तड़के 4 बजे तक ग्रामीणों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया है।

कांग्रेस ने भी बनाई जांच कमेटी
बांध की जांच के लिए कांग्रेस ने जांच कमेटी गठित की है। इसमें धार अध्यक्ष बालमुकुंद सिंह गौतम, गंधवानी विधायक उमंग सिंगार, कुक्षी विधायक सुरेंद्रसिंह हनी बघेल, इंदौर विधायक संजय शुक्ला, देपालपुर विधायक विशाल पटेल, सरदारपुरा विधायक प्रताप ग्रेवाल, धरमपुरी विधायक प्राचीलाल मेडा, मनावर विधायक डॉ. हीरा अलावा शामिल हैं। कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने कमेटी बनाकर जल्द रिपोर्ट देने का कहा है।