छत्तीसगढ़ के कई जिलों में रुक-रुककर बरस रहे बादल, सिस्टम बनने से बारिश की चेतावनी, गाज भी गिर सकती है

0
93

लौटता हुआ मॉनसून एक बार फिर मेहरबान हो रहा है। द्रोणिका के असर से छत्तीसगढ़ के कई जिलों में रुक-रुक कर बारिश हो रही है। बुधवार को भी बारिश होने और आकाशीय बिजली गिरने की संभावना है।
छत्तीसगढ़ के कई जिलों में रुक-रुककर बरस रहे बादल, सिस्टम बनने से बारिश की चेतावनी, गाज भी गिर सकती है

लौटता हुआ मॉनसून एक बार फिर मेहरबान हो रहा है। द्रोणिका के असर से छत्तीसगढ़ के कई जिलों में रुक-रुक कर बारिश हो रही है। रायपुर-भिलाई-दुर्ग में मंगलवार की शाम अच्छी बारिश हुई है। मौसम वैज्ञानियों के मुताबिक बुधवार को भी बारिश होने और आकाशीय बिजली (गाज) गिरने की संभावना है। द्रोणिका के कारण बने मजबूत सिस्टम से प्रदेश के कई जिलों में अच्छी बारिश हो रही है। कुछ देर धूप फिर अचानक बदली आने के बाद बाद बारिश होने लगती है।

मौसम विज्ञानी एचपी चंद्रा के मुताबिक दक्षिण पश्चिम मॉनसून की विदाई रेखा उत्तरकाशी, नजीबाबाद, आगरा, ग्वालियर, रतलाम और भरूच है। एक निम्न दाब का क्षेत्र पश्चिम-मध्य बंगाल की खाड़ी-तटीय आंध्र प्रदेश के ऊपर स्थित है। इसके साथ ऊपरी हवा का चक्रीय चक्रवाती घेरा 5.8 किलोमीटर ऊंचाई तक विस्तारित है। एक द्रोणिका निम्न दाब के केंद्र से उत्तर प्रदेश तक छत्तीसगढ़ होते हुए 3.1 किलोमीटर ऊंचाई तक विस्तारित है।

हल्की से मध्यम बारिश होने की संभावना
निम्न दाब का क्षेत्र बनने से छत्तीसगढ़ में 5 अक्टूबर को अधिकांश स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश होने अथवा गरज चमक के साथ छींटे पड़ने की संभावना है। प्रदेश में एक-दो स्थानों पर गरज चमक के साथ आकाशीय बिजली गिरने तथा भारी बारिश होने की संभावना है। मौसम विज्ञानी के मुताबिक कोई भी चक्रवात (तूफान) आने की संभावना फिलहाल नहीं है। बता दें कि इस साल अच्छी बारिश होने से प्रदेश के अधिकांश बांधों में लबालब पानी है।