जे पी तोलानी ने राष्ट्रपति द्रोपदी को लेकर की भविष्यवाणी, कहा- “कई महत्वपूर्ण फैसलों पर मुहर लगाने वाला होगा कार्यकाल…”

0
89

देश के 15वें राष्ट्रपति के नाम से सस्पेंस समाप्त हो चुका है. इंडिया के अगले राष्ट्रपति के रूप में आदिवासी समाज से आने वाली झारखण्ड की पूर्व राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू के नाम पर मुहर भी लग चुकी है। द्रौपदी मुर्मू की जीत के एलान के साथ ही देशभर में जश्न का माहौल देखने के लिए मिला है। वहीं द्रौपदी की जीत से BJP आदिवासी समुदाय सहित पूरे देश और मुख्यरूप से महिला वर्ग में खास संदेश देना चाह रही है। इस बीच देश के जाने माने न्यूमरोलॉजिस्ट जी पी तोलानी जी ने भी सरल, सौम्य व जुझारू महिला का प्रतीक बोली जा रही राष्ट्रपति मुर्मू के आगामी 5 वर्षों के भविष्य पर विश्लेषात्मक टिपण्णी करते हुए, उनका एक यादगार कार्यकाल बीतने का एलान किया है।

जे पी तोलानी जी का इस बारें में बोलना है कि, राष्ट्रपति मुर्मू को नंबर 4 की ताकत मिली हुई है, चूंकि उनका डेस्टिनी नंबर 31 यानी 4, नेम नंबर 49 जिसका कुल योग 13 और 1 व 3 को जोड़ने से प्राप्त होता है नंबर 4 है और अंत में उनका फर्स्ट नेम अल्फाबेट (4), उन्हें एक आउट ऑफ बॉक्स थिंकर व साहस से भरपूर शख्शियत के रूप में प्रदर्शित कर रहा है। देश की नवनिर्वाचित राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू के लिए नंबर 4 ने, हमेशा ही महत्वपूर्ण रोल अदा किया है, मसलन उन्होंने 1997 में 40 वर्ष की आयु में राजनीति में प्रवेश किया और एक पार्षद के रूप में चुन ली गई। जिसके उपरांत 1997 (रनिंग एज 40) से 2007 तक वह राजनीति से संबंधित विभिन्न पदों पर रहीं और उनके प्रयासों के कारण उन्हें ओडिशा विधानसभा द्वारा सर्वश्रेष्ठ विधायक के रूप में सम्मानित किया गया, जो केवल 49 (4 – जो उसका नाम नंबर भी है) वर्ष की उम्र में नंबर 4 की मदद से ही संभव हो सका है।

जिसके साथ साथ, फिर मई 2015 में (रनिंग ऐज 58/13/4 के 30 दिन करीब) वह झारखंड की राज्यपाल के तौर पर चुन ली गई थी। वहीं 2022 में 64/10/1 की उम्र में, उन्हें राष्ट्रपति बनने का प्रस्ताव भी बेज दिया गया था , यहाँ हमें फिर से 6 और 4 के संयोजन से नंबर 1 बनता दिखा, जो सर्वोच्च शक्ति प्रदान करने के लिए भी पहचाना जाता है। उसकी संख्या में 6 और 1 के संयोजन में हैं, इसलिए, उन्हें हमेशा एक सहायक शक्ति भी हासिल होइ है।

तोलानी जी के मुताबिक, वह 2027 में बिना किसी स्वास्थ्य या अन्य चुनौतियों का सामना किए, सफलतापूर्वक अपना कार्यकाल पूरा करने में सफल होने वाली है, और यह सीधे तौर पर नंबर 1 के साथ नंबर 6 का एक मजबूत संयोजन प्रदान करता है। जे पी तोलानी जी इस बारें में कहते है कि उपरोक्त विश्लेषण स्पष्ट रूप से दर्शाता है कि यदि कोई व्यक्ति कड़ी मेहनत करता है तो नंबर 4 उसे उच्चतम स्तर तक ले जा सकता है।