कानून व्यवस्था पर प्रियंका वाड्रा के निशाने पर फिर यूपी सरकार…मैनपुरी की घटना को बताया शर्मनाक

0
184

लखनऊ । सोनभद्र नरसंहार और उन्नाव कांड की तरह ही कांग्रेस महासचिव व उत्तर प्रदेश की प्रभारी प्रियंका वाड्रा ने मैनपुरी नवोदय विद्यालय मामले पर भी सरकार को घेरने का प्रयास तेज कर दिया है। पहले उन्होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को कार्रवाई के लिए पत्र लिखा। योगी ने ताबड़तोड़ कार्रवाई कर मैनपुरी के डीएम और एसपी को हटा दिया। सीबीआइ जांच के लिए केंद्र को रिमाइंडर भेजने के साथ ही एसआइटी से जांच भी शुरू करा दी। जांच के साथ ही गंभीर तथ्य सामने आने लगे।

इस पर प्रियंका फिर हमलावर हो गईं हैं। उन्होंने ट्वीट किया कि- ‘महिलाओं के खिलाफ अपराध के मामले में यूपी सबसे ऊपर क्यों है, इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि 16 सितंबर को शव छात्रावास में मिला था। छात्रा का परिवार गुहार लगाता रहा कि सच्चाई सामने लाइये लेकिन, कुछ नहीं हुआ।’ उन्होंने लिखा है- ‘उस छात्रा के साथ दुष्कर्म हुआ था लेकिन, उप्र सरकार का प्रशासन इतने दिन तक मामले को टरकाता रहा। यह हम सबकी नजरों के सामने आई ऐसी चौथी घटना है। शर्मनाक।’

मैनपुरी में छात्रा के साथ हुआ था दुष्कर्म

बता दें कि 16 सितंबर की सुबह नवोदय विद्यालय की छात्रा का शव फंदे पर लटका मिला था। 17 सितंबर को छात्रा के पिता ने दुष्कर्म व हत्या की धाराओं में रिपोर्ट दर्ज कराई, जिसमें एक नाबालिग छात्र के अलावा विद्यालय की तत्कालीन प्रधानाचार्य सुषमा सागा व वार्डन को नामजद करते हुए एक अज्ञात को आरोपित किया गया था। प्रधानाचार्य को निलंबित कर दिया गया था और शासन स्तर से सीबीआइ जांच की सिफारिश कर दी गई। दो महीने की जांच में पुलिस किसी निष्कर्ष पर नहीं पहुंची। जांच और कार्रवाई में देरी से नाराज मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मैनपुरी के डीएम और एसपी का तबादला कर दिया। इस बीच आगरा विधि विज्ञान प्रयोगशाला की जांच रिपोर्ट में नवोदय विद्यालय की छात्रा के साथ दुष्कर्म की पुष्टि हो गई।

प्रियंका वाड्रा ने मुख्यमंत्री को लिखा था पत्र

इस मामले में कांग्रेस की प्रदेश प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा ने ट्वीट किया, साथ ही पार्टी नेता जितिन प्रसाद ने भी मैनपुरी आकर पीड़ित परिवार से जानकारी ली। दो दिन पहले प्रियंका गांधी वाड्रा ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र भी लिखा था। इसके बाद शासन स्तर से सक्रियता बरती गई। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सख्ती के बाद रविवार को एसपी अजय शंकर राय को हटा दिया गया। सोमवार को जिलाधिकारी प्रमोद कुमार उपाध्याय को भी स्थानांतरित कर दिया गया।