90वें वायुसेना दिवस पर दुनिया देखेगी भारत का शौर्य, राफेल-सुखोई समेत 80 एयरक्राफ्ट दिखाएंगे करतब

0
73

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह हवाई शो को देखने के लिए मौजूद रहेंगे। राष्ट्रपति फ्लाई पास्ट के अवसर पर मुख्य अतिथि होंगी। एयर शो से पहले वायुसेना अड्डे पर औपचारिक परेड होगी।
90वें वायुसेना दिवस पर दुनिया देखेगी भारत का शौर्य, राफेल-सुखोई समेत 80 एयरक्राफ्ट दिखाएंगे करतब

8 अक्टूबर यानि वायुसेना दिवस पर देश आज अपने शौर्य का प्रदर्शन करने के लिए तैयार है। चंडीगढ़ के सुखना झील परिसर में वायुसेना दिवस फ्लाई पास्ट में करीब 80 सैन्य विमान और हेलीकॉप्टर हिस्सा लेंगे। भारतीय वायुसेना (IAF) अपनी 90वीं वर्षगांठ पर आयोजित समारोह में एयर शो के दौरान विमानों की श्रृंखला के साथ शानदार प्रदर्शन करेगी। यह पहला मौका है जब वायुसेना ने वार्षिक वायुसेना दिवस परेड और फ्लाई पास्ट का आयोजन दिल्ली-एनसीआर से बाहर करने का फैसला किया है।

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह हवाई शो को देखने के लिए सुखना झील पर मौजूद रहेंगे। राष्ट्रपति फ्लाई पास्ट के अवसर पर मुख्य अतिथि होंगी। एयर शो से पहले शनिवार को सुबह वायुसेना अड्डे पर औपचारिक परेड होगी। परेड का निरीक्षण एयर चीफ मार्शल वी आर चौधरी करेंगे। उन्होंने बताया कि एयरफोर्स चीफ इस अवसर पर वायुसेना कर्मियों के लिए नई लड़ाकू यूनिफॉर्म पेश करेंगे।

फ्लाई पास्ट कई मायनों में है खास
अधिकारी ने कहा कि उन्नत हल्के हेलीकॉप्टर एमके-4 परेड कार्यक्रम में रुद्र संरचना में फ्लाई पास्ट करेंगे। कार्यक्रम के दौरान कम समय में वाहन के टूटने और फिर से जुड़ने का यांत्रिक परिवहन दल की ओर से प्रदर्शन किया जाएगा, जिसके बाद वायु योद्धा ड्रिल टीम का प्रदर्शन होगा। बाद में दिन में सुखना झील पर फ्लाई पास्ट का आयोजन होगा।

फ्लाई पास्ट का हिस्सा होंगे ये विमान
हाल में वायुसेना में शामिल किए गए स्वदेशी तकनीक से बने हल्के लड़ाकू हेलीकॉप्टर (LCH) ‘प्रचंड’ की ओर से भी फ्लाई पास्ट के दौरान तीन विमान संरचना में हवाई कौशल का प्रदर्शन किया जाएगा। ‘प्रचंड’ के अलावा हल्के लड़ाकू विमान (एलसीए) तेजस, सुखोई, मिग-29, जगुआर, राफेल, आईएल-76, सी-130जे और हॉक भी फ्लाई पास्ट का हिस्सा होंगे। हेलीकॉप्टरों में उन्नत हल्के हेलीकॉप्टर ध्रुव, चिनूक, अपाचे और एमआई-17 भी हवाई प्रदर्शन का हिस्सा होंगे। फ्लाई पास्ट की शुरुआत पैराट्रूपर की ‘आकाश गंगा’ टीम के एएन-32 विमान से नीचे छलांग लगाने के साथ होगी।