सिर्फ पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश से आए शरणार्थियों पर ही लागू होगा विधेयक

0
117

नागरिकता (संशोधन) बिल सिर्फ पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश से आए शरणार्थियों पर ही लागू होगा, ऐसे में श्रीलंका से भारत आए हिंदू तमिल और म्यामांर से आए हिंदू रोहिंग्या शरणार्थियों का क्या होगा? हिंदू होने पर भी उन्हें नागरिकता (संशोधन) विधेयक का लाभ नहीं मिल सकेगा।

नई दिल्ली। नागरिकता (संशोधन) विधेयक को पड़ोसी देशों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अल्पसंख्यकों के बेहतर भविष्य का रास्ता बता चुके हैं। उधर, गृह मंत्री अमित शाह ने स्पष्ट कहा है कि इस विधेयक में पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश से आए मुसलमानों को जगह नहीं मिलेगी क्योंकि इन देशों में धार्मिक आधार पर मुसलमानों की प्रताड़ना की आशंका नहीं हैं।
पाकिस्तान ने कानून बनाकर अहमदियों के मुसलमान नहीं होने का ऐलान कर दिया है। वे कुरान नहीं पढ़ सकते हैं और उनके मस्जिदों में नमाज पढ़ने पर पाबंदी है। साल 1984 में जब तानाशाह जिया-उल-हक के निर्देश पर अहमदिया समुदाय पर पाबंदियां लागू की गईं तब से पाकिस्तान में 400 से ज्यादा अहमदिया मुसलमानों की हत्या की जा चुकी है। जबकि भारत समेत तमाम दुनिया अहमदियों को मुसलमान मानता है। दरअसल, कुछ अहमदिया मुसलमानों ने पाकिस्तान से भागकर नेपाल में शरण ले रखा है जो एक हिंदू बहुल देश है।