वो RSS नेता हैं, 100 किलो वजन और साथ में नौकर था; राहुल गांधी ने सुनाया केदारनाथ यात्रा का पुराना किस्सा

0
59

कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा के दौरान महाराष्ट्र में राहुल गांधी ने एक सभा को संबोधित करते हुए एक पुरानी घटना का जिक्र किया। कहा कि वो उस दौरान एक आरएसएस नेता से मिले थे। 100 किलो वजन रहा होगा।
वो RSS नेता हैं, 100 किलो वजन और साथ में नौकर था; राहुल गांधी ने सुनाया केदारनाथ यात्रा का पुराना किस्सा

कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा के दौरान महाराष्ट्र में राहुल गांधी ने एक सभा को संबोधित करते हुए एक पुरानी घटना का जिक्र कर नये राजनीतिक घमासान को शुरू कर दिया है। अपनी केदारनाथ यात्रा का जिक्र करते हुए राहुल गांधी ने कहा कि वो उस दौरान एक आरएसएस नेता से मिले थे। तकरीबन 100 किलो वजन रहा होगा। साथ में नौकर भी था। वो शिवजी को फलों की टोकरी चढ़ाना चाहते थे लेकिन, टोकरी नौकर ने उठा रखी थी। धाम जाने के लिए उन्होंने चौपर चुना और मैंने पैदल जाना सही समझा।

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने गुरुवार को महाराष्ट्र के नांदेड़ में एक रैली को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि उन्हें एक कहानी सुनाने का मन कर रहा है, पहले दर्शकों से अनुमति मांगी। कहा कि यह कहानी विवादास्पद है। यह वह समय था जब वो केदारनाथ गए थे और वहां आरएसएस के एक नेता से मिले थे।

राहुल का किस्सा सुनिए
राहुल गांधी ने साल 2015 में केदारनाथ यात्रा की थी। राहुल गांधी ने कहा कि उन्होंने अपना मन बना लिया है कि वह केदारनाथ के लिए हेलीकॉप्टर नहीं चुनेंगे। राहुल कहते हैं कि मैं दुनिया के सबसे महान तपस्वी के दर्शन करने जा रहा हूं और क्या मैं 15-16 किमी चलने की तपस्या नहीं कर सकता? राहुल गांधी ने कहा कि वह केदारनाथ में आरएसएस के एक कट्टर नेता से मिले। राहुल ने कहा, “मुझे नहीं पता कि यह कैसे कहना है लेकिन उनका वजन लगभग 100 किलो था। उनके साथ एक नौकर था जो फलों की टोकरी लिए था। जैसा कि मैंने उनसे पूछा, उन्होंने कहा कि वह उन फलों को शिव जी को चढ़ाने के लिए लाये हैं। लेकिन मैंने उनसे यह नहीं कहा, यह आपको खुद करना चाहिए।”

शिव से क्या मांगा
राहुल गांधी ने कहा, “उन्होंने मुझसे पूछा कि मैं कैसे पहुंचे। मैंने उनसे कहा कि मैं चल रहा हूं। उन्होंने मुझसे कहा कि उन्होंने हेलिकॉप्टर से उड़ान भरी। पूजा के बाद, उन्होंने मुझसे पूछा कि मैंने भगवान से क्या मांगा है। मैंने भी उनसे यही बात पूछी थी। उन्होंने कहा, ‘राहुल, मैंने सेहत (स्वास्थ्य) मांगी’। मुझे लगा कि उन्हें ‘स्वास्थ्य’ मिल गया होता, वह केदारनाथ तक चल सकते थे। लेकिन मैंने उन्हें अपने दिल की बात नहीं कही।”

हालाँकि, राहुल गांधी ने दर्शकों को बताया कि उन्होंने वास्तव में भगवान से क्या पूछा था। राहुल गांधी ने कहा, “मैंने उन्हें नहीं बताया। क्योंकि उन्हें इस बात का एहसास नहीं हो सकता था क्योंकि हमारे तरीके अलग हैं। लेकिन मैं आपको बता रहा हूं कि मैंने कुछ नहीं मांगा। मैंने सिर्फ हाथ जोड़कर शिव जी को मुझे रास्ता दिखाने के लिए धन्यवाद दिया।”