मोदी ने बालासाहेब समृद्धि हाईवे का उद्घाटन में बजाया ढोल:PM ने नागपुर में मेट्रो की सवारी, स्टूडेंट्स से चर्चा की

0
80

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नागपुर में 520 किमी लंबे हिंदू हृदय सम्राट बालासाहेब ठाकरे महाराष्ट्र समृद्धि महामार्ग के पहले चरण का उद्घाटन किया। यहां ढोल बजाकर मोदी का स्वागत किया गया। मोदी कलाकारों के बीच पहुंचे और उनके साथ ढोल भी बजाया।

मोदी ने नागपुर में मेट्रो सेवा की भी शुरुआत की। मेट्रो स्टेशन के उद्घाटन के बाद उन्होंने स्टूडेंट्स के साथ मेट्रो की सवारी की। स्टूडेंट्स ने पीएम मोदी से बातचीत भी की। इससे पहले उन्होंने सबसे पहले नागपुर रेलवे स्टेशन से वंदे भारत ट्रेन को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया था। ये देश की छठवीं वंदे भारत ट्रेन है। यह ट्रेन नागपुर से रायपुर के बीच चलेगी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नागपुर में मेट्रो स्टेशन के उद्घाटन के बाद स्टूडेंट्स के साथ मेट्रो की सवारी की।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नागपुर में मेट्रो स्टेशन के उद्घाटन के बाद स्टूडेंट्स के साथ मेट्रो की सवारी की।
पीएम शनिवार सुबह नागपुर एयरपोर्ट पहुंचे थे। यहां पर मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे, डिप्टी सीएम देवेंद्र फडणवीस ने उनका स्वागत किया। मोदी ने महाराष्ट्र में 75 हजार करोड़ के प्रोजेक्ट्स की शुरुआत की। इसके बाद उन्होंने AIIMS नागपुर का उद्घाटन किया। यहां से PM मोदी गोवा जाएंगे, वहां मोपा इंटरनेशनल एयरपोर्ट का उद्घाटन करेंगे।

नागपुर रेलवे स्टेशन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश की छठवीं वंदे भारत एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया।
नागपुर रेलवे स्टेशन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश की छठवीं वंदे भारत एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया।
नागपुर में 520 किमी लंबे समृद्धि महामार्ग का उद्घाटन किया
मुंबई-नागपुर एक्सप्रेस-वे का पहला चरण पूरा हो गया है। 6 लेन के एक्सप्रेसवे को ‘समृद्धि महामार्ग’ नाम दिया गया है। PM मोदी ने नागपुर और शिर्डी को जोड़ने वाले 520 किमी लंबे समृद्धि महामार्ग के पहले चरण का उद्घाटन किया। यह एक्सप्रेस-वे उत्तरी महाराष्ट्र, विदर्भ और मराठवाड़ा के 10 जिलों से गुजरेगा।

6 लेन का एक्सप्रेसवे ‘समृद्धि महामार्ग’ उत्तरी महाराष्ट्र, विदर्भ और मराठवाड़ा के 10 जिलों से गुजरेगा।
6 लेन का एक्सप्रेसवे ‘समृद्धि महामार्ग’ उत्तरी महाराष्ट्र, विदर्भ और मराठवाड़ा के 10 जिलों से गुजरेगा।
दूसरा चरण पूरा होने पर लंबाई 701 किमी होगी। लागत 55 हजार करोड़ रुपए है। इससे 24 जिलों के विकास में मदद मिलेगी। यह दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेस-वे, जवाहरलाल नेहरू पोर्ट ट्रस्ट, अजंता-एलोरा गुफाओं, शिर्डी, वेरुल, लोनार पर्यटन स्थलों से जुड़ेगा। यह भारत के सबसे लंबे एक्सप्रेसवे में से एक है। देशभर में बेहतर कनेक्टिविटी और बेसिक इंफ्रास्ट्रक्चर को लेकर प्रधानमंत्री के सपने को साकार करने की दिशा में एक बड़ा कदम है।

समृद्धि महामार्ग योजना के तहत नागपुर से मुंबई तक सुपर कम्युनिकेशन एक्सप्रेसवे बनाने का लक्ष्य है।
समृद्धि महामार्ग योजना के तहत नागपुर से मुंबई तक सुपर कम्युनिकेशन एक्सप्रेसवे बनाने का लक्ष्य है।
नागपुर में दो मेट्रो ट्रेनों को हरी झंडी दिखाई
प्रधानमंत्री नागपुर में खपरी मेट्रो स्टेशन पर दो मेट्रो ट्रेनों- खपरी से ऑटोमोटिव स्क्वायर (ऑरेंज लाइन) और प्रजापति नगर से लोकमान्य नगर (एक्वा लाइन) को हरी झंडी दिखाई। नागपुर मेट्रो का पहला चरण 8 हजार करोड़ रुपए से अधिक की लागत से बनाया गया है। PM मोदी ने करीब 6700 करोड़ रुपए की लागत से बने नागपुर मेट्रो फेज-2 का भी शिलान्यास किया।

पीएम मोदी ने मेट्रो में यात्रा के दौरान अन्य यात्रियों से बातचीत की। इस दौरान पीएम ठहाके लगाते नजर आए।
पीएम मोदी ने मेट्रो में यात्रा के दौरान अन्य यात्रियों से बातचीत की। इस दौरान पीएम ठहाके लगाते नजर आए।
नागपुर एयरपोर्ट पर मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे, डिप्टी सीएम देवेंद्र फडणवीस ने पीएम मोदी का स्वागत किया।
नागपुर एयरपोर्ट पर मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे, डिप्टी सीएम देवेंद्र फडणवीस ने पीएम मोदी का स्वागत किया।
नागपुर के बाद गोवा जाएंगे PM मोदी

महाराष्ट्र के बाद PM मोदी गोवा में 2,870 करोड़ रुपए की लागत से बने मोपा इंटरनेशनल एयरपोर्ट का उद्घाटन करेंगे। PM मोदी ने इस एयरपोर्ट की आधारशिला 2016 में रखी थी। यह गोवा में दूसरा हवाई अड्डा होगा। पहला एयरपोर्ट डाबोलिम में स्थित है। पहले फेज में एयरपोर्ट की सालाना क्षमता 44 लाख यात्रियों की है। जबकि परियोजना के पूरी होने पर इसकी कुल क्षमता सालाना 1 करोड़ यात्रियों की हो जाएगी।

मोपा एयरपोर्ट की कुछ फोटोज आप नीचे देख सकते हैं…

मोपा एयरपोर्ट में नाइट पार्किंग करने की सुविधा मिलेगी, जो डाबोलिम हवाईअड्डे पर उपलब्ध नहीं है।
मोपा एयरपोर्ट में नाइट पार्किंग करने की सुविधा मिलेगी, जो डाबोलिम हवाईअड्डे पर उपलब्ध नहीं है।
मोपा एयरपोर्ट के जरिए 35 डोमेस्टिक और 18 इंटरनेशनल लोकेशन्स तक पहुंचा जा सकेगा।
मोपा एयरपोर्ट के जरिए 35 डोमेस्टिक और 18 इंटरनेशनल लोकेशन्स तक पहुंचा जा सकेगा।
मोपा हवाईअड्डे में 25,000 मीट्रिक टन की हैंडलिंग क्षमता वाली कार्गो सुविधा होगी।
मोपा हवाईअड्डे में 25,000 मीट्रिक टन की हैंडलिंग क्षमता वाली कार्गो सुविधा होगी।
इस एयरपोर्ट को करीब 2,870 करोड़ रुपए की लागत से बनाया गया है। यहां यात्रियों की सुविधा का विशेष ध्यान रखा गया है।/s
इस एयरपोर्ट को करीब 2,870 करोड़ रुपए की लागत से बनाया गया है। यहां यात्रियों की सुविधा का विशेष ध्यान रखा गया है।/s
3D मोनोलिथिक प्रीकास्ट बिल्डिंग, स्टेबिलरोड, रोबोमैटिक हॉलो प्रीकास्ट वॉल, 5जी कंपैटिबल आईटी इंफ्रास्ट्रक्चर जैसी कुछ बेहतरीन टेक्नोलॉजी को अपनाया गया है।
3D मोनोलिथिक प्रीकास्ट बिल्डिंग, स्टेबिलरोड, रोबोमैटिक हॉलो प्रीकास्ट वॉल, 5जी कंपैटिबल आईटी इंफ्रास्ट्रक्चर जैसी कुछ बेहतरीन टेक्नोलॉजी को अपनाया गया है।
इस एयरपोर्ट को बेसिक इंफ्रास्ट्रक्चर के थीम पर तैयार किया गया है।
इस एयरपोर्ट को बेसिक इंफ्रास्ट्रक्चर के थीम पर तैयार किया गया है।
मोदी सरकार में दोगुनी हुई एयरपोर्ट्स की संख्या

देश में PM नरेंद्र मोदी की सरकार बनने के बाद से यानी साल 2014 से देश में एयरपोर्ट की संख्या 74 से दोगुनी होकर लगभग 140 या इससे ज्यादा हुई है। सरकार का टारगेट है कि अगले 5 सालों में देश में एयरपोर्ट की संख्या 220 से ज्यादा कर दी जाए ताकि न सिर्फ देश बल्कि विदेशों के साथ भी कनेक्टविटी मजबूत हो सके।