सुशांत केस: कपूर हॉस्पिटल और मुंबई पुलिस को महाराष्ट्र मानवाधिकार आयोग ने भेजा नोटिस

0
70

सुशांत सिंह राजपूत मामले में सीबीआई जांच चल रही है। इस बीच महाराष्ट्र मानव अधिकार आयोग ने कपूर हॉस्पिटल ( जहां सुशांत का पोस्टमॉर्टम हुआ था) और पुलिस को नोटिस जारी किया है। SHRC प्रमुख एमए सईद ने मुंबई मिरर ने बातचीत में कहा कि उन्होंने लीगल विंग से इस मामले को देखने के लिए कहा। जब उन्होंने रिया के मोर्चरी में जाते हुए वीडियो को देखा। उन्होंने कहा, ‘हमें नहीं पता कि कैसे और किन परिस्थितियों में रिया चक्रवर्ती को मोर्चरी जाने की अनुमति दी गई थी। ऐसा नहीं होना चाहिए था।’आयोग का कहना है कि आखिर रिया चक्रवर्ती को मोर्चरी में जाने की इजाजत कैसे दी गई और क्या नियम थे। जो वह सुशांत सिंह राजपूत की बॉडी को देखने के लिए मोर्चरी गईं।
सईद ने कहा कि कूपर अस्पताल के डीन को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है। जिसमें पूछा गया है कि रिया और उसके परिवार के सदस्यों को मोर्चरी में कैसे और क्यों जाने दिया गया। सईद ने बताया कि वह इस मुद्दे को अर्जेंट के तौर पर ट्रीट कर रहे हैं।
सुशांत की मौत के एक दिन बाद 15 जून की दोपहर कूपर अस्पताल की मोर्चरी में तीन अन्य लोगों के साथ रिया को देखा गया था। महाराष्ट्र मानव अधिकार आयोग के एक अधिकारी ने कहा, ‘हम इस बात की जांच कर रहे हैं कि आखिर उन्हें एंट्री कैसे मिली। इस मामले की सुनवाई होगी। पुलिस को भी परिणाम भुगतने होंगे।’
आपको बता दें कि सुशांत सिंह राजपूत के पिता केके सिंह ने रिया चक्रवर्ती के खिलाफ बीते माह केस दर्ज कराया था। रिया के वकील सतीश मान शिंदे ने सभी आरोपों से इनकार किया है और एक बयान में कहा, ‘ यह सभी आरोप पूरी तरह से मनगढ़ंत हैं। रिया ने आत्महत्या के लिए उकसाने, पैसों की धोखाधड़ी आरोपों से इनकार किया है।’