Happy Birthday Ramesh Sippy: ‘शोले’ बनाने के लिए नहीं थे रमेश सिप्पी के पास पैसे, जानिए कैसे बनाई ब्लॉकबस्टर फिल्म

0
486

नई दिल्ली : हिंद सिनेमा को ‘शोले’ जैसी एक यादगार फिल्म देने वाले निर्माता रमेश सिप्पी का आज जन्मदिन है। रमेश सिप्पी का जन्म 23 जनवरी, 1947 को कराची पाकिस्तान में हुआ था। रमेश सिप्पी मशहूर प्रोड्यूसर जीपी स‍िप्पी के बेटे हैं। रमेश ने साल 1975 में फिल्म ‘शोले’ बनाकर हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में इतिहास रच दिया था। आपको बता दें कि ‘शोले’ जैसी ब्लॉकबस्टर फिल्म देने वाले रमेश सिप्पी की किस्मत में हिट से ज्यादा फ्लॉप फिल्मों की लिस्ट शामिल हैं। तो चलिए उनके जन्मदिन पर जानते हैं उनकी लाइफ से जुड़ी कुछ खास बातें…

पद्मश्री विजेता निर्माता-निर्देशक रमेश सिप्पी ने फिल्म निर्माण के गुर सीखने के लिए छः साल की अबोध उम्र से ही फिल्मों के सेट पर जाना शुरू कर दिया था। रमेश सिप्पी ने हिंदी सिनेमा में फिल्म ‘शोले’, ‘सीता-गीता’,’शान’ जैसी ब्लाकबस्टर फिल्मों के लिए जाने जाते हैं। लेकिन इसके अलावा उनकी कई ऐसी फिल्में हैं जिन्होंने बॉक्स ऑफ‍िस पर खास मुकाम नहीं बनाया। इन फ्लॉप फिल्मों में ‘सोनाली केबल’, ‘नौटंकी साला’, ‘चांदनी चौक टू चाइना’, ‘टैक्सी नं 9211’ शामिल हैं। इसके अलावा रमेश स‍िप्पी ने टीवी की दुनिया में भी हाथ आजमाया, इनमें ‘बुन‍ियाद’ सीर‍ियल शामिल है। जो काफी सफल रही।

एक इंटरव्यू में रमेश सिप्पी ने बातया था कि शोले बनाने के लिए उनके पास बजट नहीं था और उन्होंने अपने पिता जीपी सिप्पी से पैसे मांगे थे। उन्होंने रमेश की मदद की और ये फिल्म करीब 3 करोड़ रुपये लगे थे, स्टारकास्ट में मात्र 20 लाख रुपये लगे। फिल्म में सबसे मशहूर रोल गब्बर स‍िंह का किरदार सबसे पहले डैनी डेन्जोंगपा को मिला था। लेकिन तारीख नहीं मिल पाने की वजह से अमजद खान को कास्ट किया गया। आपको बता दें कि कई ऐसे फिल्में हैं जिन्होंने रमेश सिप्पी को महान निर्देशक बनाया। इन फिल्मों में साल 1971 में रिलीज हुई ‘अंदाज’, साल 1972 में आई ‘सीता और गीता’, 1980 में आई ‘शान’ और साल 1982 ‘शक्ति’ शामिल है। रमेश सिप्पी की हालिया फिल्म ‘शिमला मिर्च’ है। इस फिल्म में एक्टर राज कुमार राव, रकुल प्रीत सिंह और हेमा मालिनी लीड रोल हैं।