सीबीआई जांच उठा सकती है सुशांत की रहस्यमयी मौत का पर्दा

0
82
चर्चित ​फिल्म अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत की जांच को लेकर बीते दो माह से चल रही कश्मकश का बुधवार को देश की शीर्ष अदालत द्वारा दिये गये निर्णय के साथ पटाक्षेप हो गया। सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में बिहार सरकार की अनुशंसा को सही ठहराते हुए बुधवार को सीबीआई को निर्देश दिया कि वे अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत मौत मामले की जांच करें। कोर्ट ने महाराष्ट्र पुलिस से मामले में सहयोग करने को कहा है। महाराष्ट्र सरकार लगातार इस मामले में सीबीआई जांच का विरोध कर रही थी और उसका कहना था कि, ‘मामला मुंबई पुलिस के पास ही रहने दिया जाये।’
सुशांत की रहस्यमयी मौत ने बॉलीवुड के जगमगाती चकाचौंध करती दुनिया की पीछे की संड़ांध को उजागर कर दिया है। दरअसल, बॉलीवुड के ग्लैमर के पीछे भागते युवा वर्ग का यहां के मठाधीशों द्वारा किये जाने वाला शोषण पर्दे के पीछे दबकर रह जाता था। सुशांत सिंह राजपूत बॉलीवुड का एक उभरता हुआ सितारा था, जो कि अपने अभिनय के बल पर बहुत कम वक्त में लाखों प्रशंसकों का चहेता बन चुका था। उसकी असमय रहस्यमयी मौत ने उसके प्रशंसकों को झकझोर कर रख दिया। उधर, जब लोगों को पता चला कि उसकी मौत के जिम्मेदारों को बचाने के लिए एक बड़ी प्रभावशाली लॉबी काम कर रही है तो उनका गुस्सा भड़कना वाजिब था।
 उधर महाराष्ट्र सरकार तथा मुंबई पुलिस की कार्यप्रणाली इस मामले में ​लगातार संदिग्ध नजर आ रही थी। सुशांत की मौत की जांच गंभीरता के साथ करने का दावा करने वाली मुंबई पुलिस ने सिर्फ सुशांत की मौत के मामले में आकस्मिक मौत की रिपोर्ट दर्ज की थी। उधर, जब सुशांत के परिवारजनों ने पटना में उसकी मौत की जांच कराये जाने को लेकर एफआईआर दर्ज करायी तो मुंबई पुलिस के साथ—साथ महाराष्ट्र सरकार ने इसका खुलकर विरोध किया। यहां तक कि इस मामले की जांच के लिए पटना से मुंबई गये पुलिस अधीक्षक को मुंबई में पुलिस मैस में ठहरने का इंतजाम तक नहीं किया गया। उन्होंने जब मुंबई के गोरेगांव में एक गेस्ट हाउस में निजी तौर पर रुक कर मामले की जांच करने की कोशिश की तो उन्हें 14 दिन के लिए क्वारंटाइन कर दिया गया।
सुशांत के परिवारवालों की मांग पर बिहार की नीतीश सरकार द्वारा इस मामले की जांच सीबीआई से किये जाने की अनुशंसा का भी मुंबई पुलिस और महाराष्ट्र सरकार ने जमकर विरोध किया। अंतत: इस केस की जांच को लेकर सुप्रीम कोर्ट में दस्तक दी गयी।
बुधवार को इस मामले में बिहार सरकार की अनुशंसा को सही ठहराते हुए सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई को अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत मौत मामले की जांच करने का निर्देश दिया। कोर्ट ने महाराष्ट्र पुलिस से मामले में सहयोग करने को कहा है।
कोर्ट के इस आदेश के बाद अब मुंबई पुलिस को जांच के संबंध में एकत्र किये गये सभी सबूत सीबीआई को सौंपने होंगे। महाराष्ट्र सरकार ने जांच सीबीआई को स्थानांतरित करने के फैसले को चुनौती देने के लिए स्वतंत्रता मांगी, जिसे सुप्रीम कोर्ट ने इनकार कर दिया है। यानी महाराष्ट्र सरकार सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले को चुनौती भी नहीं दे पायेगी।
बहरहाल, शीर्ष अदालत के द्वारा दिये गये निर्णय ने एक बार ​फिर लोगों का न्याय प्रणाली के प्रति भरोसा जाग्रत किया है। इस निर्णय के बाद सुशांत के परिवार वालों समेत उसके लाखों प्रशंसकों को यह उम्मीद बंधी है कि, सीबीआई द्वारा की जाने वाली जांच के माध्यम से दूध का दूध और पानी का पानी होगा तथा सुशांत की मौत से पर्दा उठेगा। इसके साथ ही बॉलीवुड के दबंग मठाधीशों के चेहरों से भी नकाब हटेगा और सच्चाई की जीत होगी।
RAHUL SINGH CHOUDHARY